S M L

सेलिब्रिटी यौन उत्पीड़न: कितना हादसा और कितनी हकीकत!

लड़कियां तो क्या यहां लड़के भी सुरक्षित नहीं हैं

Updated On: Mar 29, 2017 02:02 PM IST

Kumar Sanjay Singh

0
सेलिब्रिटी यौन उत्पीड़न: कितना हादसा और कितनी हकीकत!

'भाभी घर पर हैं' सीरियल में अंगूरी भाभी का किरदार निभाने वाली शिल्पा शिंदे ने इस सीरियल की निर्माता बेनिफर कोहली के पति संजय कोहली पर यौन उत्पीड़न की शिकायत दर्ज करवा कर सिनेजगत में यौन उत्पीड़न के नासूर को एक बार फिर से खुरच दिया है.

इस मुद्दे पर कई अभिनेत्रियां पहले भी आवाज उठाती रही हैं लेकिन उनमें से अधिकांश को इसकी कीमत अपने करियर की बलि देकर चुकानी पड़ी है. शिल्पा शिंदे ने इस पुराने विवाद के खुलासे के लिए जो वक़्त चुना है उसकी वजह से वो खुद भी कठघरे में हैं.

बहरहाल, शोबिज की नयी फिलॉसफी के मुताबिक़ देह एक दर्शन है इस दर्शन का एक भूगोल है और इस भूगोल में कई इतिहास दफ़न हैं...आइये आपको रुबरु करवाते हैं इतिहास में दफ़न कुछ सनसनीखेज मामलों से...

साबिहा-राजेश खन्ना

अस्सी के दशक में अभिनेत्री साबिहा ने तत्कालीन सुपरस्टार राजेश खन्ना पर छेड़-छाड़ और प्रलोभन देने का खुलासा कर खलबली मचा दी थी… राजेश खन्ना तो सलामत रहे अलबत्ता साबिहा इंडस्ट्री से आउट हो गयी…

ममता कुलकर्ली-राजकुमार संतोषी

चाइना गेट के निर्माण के दौरान अभिनेत्री ममता कुलकर्णी ने अपने एक इंटरव्यू में निर्देशक राजकुमार संतोषी पर ये आरोप लगाया था कि उन्होंने उसे कास्टिंग काउच का ऑफर दिया था और साथ ही ये धमकी भी कि अगर ममता ने उनकी बात नहीं मानी तो उसे फिल्म से बाहर कर देंगे, हालांकि फायनेंसर भरत भाई शाह के बीच-बचाव के बाद ये मामला ठंडा पड़ गया… लेकिन इसके बाद ममता कुलकर्णी के करियर का भी कबाड़ा हो गया…

सुभाष घई-महिमा चौधरी

मुक्ता आर्ट्स की परदेश से बॉलीवुड में कदम रखनेवाली महिमा चौधरी ने अपने प्रोड्यूसर-डायरेक्टर सुभाष घई पर यौन-शोषण का ऑफर देने का आरोप लगाकर खूब सुर्खियाँ बटोरी थी लेकिन जैसा कि अमूमन होता आया है महिमा भी अपने बयान से पलट गयी. वैसे भी ‘समरथ को नहीं दोष गुसाईं’… ऐसे आरोपों से बॉलीवुड के स्वयंभू शोमैन का बिगड़नेवाला भी क्या था…?

मनीषा कोइराला-सुभाष घई

महिमा के बाद मनीषा कोईराला ने घई साहब को कटघरे में खड़ा किया था.. लेकिन सारे मामले दब गए.. एक इजराईल मॉडल रीना गोलेन ने मामी फिल्म फेस्टिवल के दौरान प्रकाशित अपनी किताब “Dear Mr. Bollywood’, How i fell in Love with India” में सुभाष घई पर यौन शोषण के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया… एक के बाद एक ऐसे आरोपों के घेरे में आते सुभाष घई हर बार निश्चिन्त दिखे और मामले को फर्जी बताते हुए मामला खारिज करते रहे. रीना गोलेन अगर केवल सुभाष घई पर ही आरोप लगाती तो भी मामला निजी ही रहता, लेकिन उन्होंने अनीस बज्मी और भजन सम्राट अनूप जलोटा पर भी सनसनी खेज़ आरोप लगाये. कास्टिंग काउच को बॉलीवुड का अनिवार्य हिस्सा बताते हुए रीना ने शो बिजनेस के तमाम सफेदपोशों को बेपर्दा कर दिया..

मधुर भंडारकर-प्रीति जैन

राजनीति , फैशन और शो बिजनस जैसे सेक्टर्स में कास्टिंग काउच की बखिया उधेड़कर वाहवाही लुटनेवाले निर्देशक मधुर भंडारकर खुद ही आरोपों के घेरे में रहे हैं…. 2004 में प्रीति जैन ने मधुर पर फिल्मों में चांस दिए जाने के एवज में यौन-शोषण करने का आरोप लगाया, मामला कोर्ट तक जा पहुंचा.

कास्टिंग काउच के मामले में ये मामला सबसे ज्यादा सुर्ख़ियों में रहा. शायद इसीलिए कि प्रीति जैन ने किसी के दबाव के आगे झुकने से इनकार कर दिया. नतीजन उन्हें बॉलीवुड से अपना बोरिया-बिस्तर समेटना पड़ा.

पायल रोहातगी-दिबाकर बनर्जी

पायल रोहतगी ने निर्देशक दिबाकर बनर्जी पर भी फिल्म ‘शंघाई’ में रोल देने के बदले यौन-शोषण के दबाव का आरोप लगाया था. मामला जितनी तेज़ी से उछाला उतनी ही तेज़ी से शांत भी हो गया.

हीरो भी सुरक्षित नहीं 

बॉलीवुड के पैरोंकारों का कहना है कि यहां किसी के साथ कोई भेदभाव नहीं होता. कास्टिंग काउच के मामले में भी ये फार्मूला लागू होता है यानि यहां फीमेल तो क्या मेल भी महफूज़ नहीं हैं.

मॉडल युवराज पराशर ने निर्देशक ऑनिर पर ऐसे ही कुछ सनसनी खेज़ आरोप लगाये थे, बकौल युवराज-ऑनिर ने उन्हें अपनी आगामी फिल्म में रोल देने का लालच देकर अपने घर बुलाया और उनके साथ ज़बरदस्ती की. बाद में ऑनिर ने इस आरोप का खंडन करते हुए युवराज के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर कर दिया.

इससे पहले सोनू निगम और सोनू सूद भी ऐसे आरोप लगा चुके हैं. अभिनेता साहिल चड्ढा ने भी एक नामचीन निर्देशक पर अपनी फिल्म का हीरो बनने की एवज में अपने साथ रात गुज़ारने की पेशकश का खुलासा कर खूब सनसनी मचाई थी. बॉलीवुड में समलौगिकों के दबदबे से सभी वाकिफ हैं लेकिन हर शख्स इस सच्चाई को कबूल करने से कतराता है.

सिने जगत में यौन उत्पीड़न को लेकर इस क्षेत्र से जुड़े लोगों की अलग-अलग राय है. कुछ लोगों की राय है कि ज्यादातर मामले पहले तो म्युचुअल ही होते हैं जो बाद में किसी ना किसी वजह सामने आ जाते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi