S M L

FILM REVIEW मनमर्जियां : आपके इश्क करने का तेवर बदल देगी 'मनमर्जियां'

फिल्म मनमर्जियां में एक बार फिर अनुराग कश्यप ने अपनी क्रिएटिव शब्दावली से प्यार, इश्क और मोहब्बत की नए जमाने की परिभाषा पेश की है

फ़र्स्टपोस्ट रेटिंग:

Updated On: Sep 14, 2018 01:03 AM IST

Hemant R Sharma Hemant R Sharma
कंसल्टेंट एंटरटेनमेंट एडिटर, फ़र्स्टपोस्ट हिंदी

0
FILM REVIEW मनमर्जियां : आपके इश्क करने का तेवर बदल देगी 'मनमर्जियां'
Loading...
निर्देशक: अनुराग कश्यप
कलाकार: अभिषेक बच्चन, तापसी पन्नू, विकी कौशल

पुराने जमाने का प्यार नए जमाने का फ्यार कैसे बन गया है...कोई इश्क का रंग  सफेद बता चुका है तो उसे ‘ग्रे वाला शेड’ बताकर अनुराग कश्यप ने आज के जमाने के लव को एक नए तरीके से डिफाइन करने की कोशिश फिल्म मनमर्जियां में की है.. जिसमें इस बार वो पूरी तरह से सफल नजर आते हैं....रंगरेलियां...चोंच लड़ियां...कुड़ी की सोहबत...से लेकर पोरस दे विच सिकंदर और अप्रैल दे विच दिसंबर कैसे नाचते हैं ये और बहुत कुछ आपके लिए इसमें नया है...

अगर आप इस फिल्म को देखकर आएंगे तो दावा है कि आपकी आंखों से हंजुओं का दरिया जरूर बह निकलेगा...उस प्यार के लिए जो फ्यार हो...उसका शेड ग्रे हो...या कुछ और...आपके दिल में वो आज तक वैसा ही है...अपने प्यार के घिसे पिटे वर्जन्स को मारो अपडेट और चलो हमारे साथ इस फिल्म की सैर पर...मनमर्जियां करने...

स्टोरी

रूमी (तापसी पन्नू) हाकी खेलती है, माता-पिता नहीं हैं. अपने प्यार विकी (विकी कौशल) के साथ उसकी फ्यार वाली हरकतों के चलते उसके दादा उसकी शादी कर देना चाहते हैं. पहला मौका रूमी विकी को ही देती है लेकिन वो अपने परिवार के साथ रिश्ता लेकर नहीं आता. उसे तो बस रूमी के साथ फ्यार करना है. रूमी उसको रिश्ता लाने के कई मौके देती है, उसके साथ घर से भागती भी है लेकिन विकी शादी की जिम्मेदारी से हमेशा भागता ही नजर आता है. हारकर रूमी रौबी (अभिषेक बच्चन) से शादी कर लेती है. रौबी को रूमी और विकी की प्रेम कहानी समझ में आ जाती है और वो इन दोनों को फिर से मिलवाने की कोशिशें करने लगता है क्योंकि वो जानता है कि रूमी विकी से सच्चा प्यार करती है. यहां तक कि रौबी रूमी को तलाक देकर उसके लिए विकी के साथ शादी करने का रास्ता भी दे देता है. तो रौबी की तमाम कोशिशों के बाद भी क्या फिर विकी से रूमी की शादी हो पाती है या नहीं ये आपको मनमर्जियां देखकर ही जानना पड़ेगा.

म्यूजिकल लव स्टोरी और ड्रामा

अनुराग कश्यप की इस फिल्म में पहली बार 14 गाने हैं. लेकिन इन गानों को देखकर या सुनकर आप कहीं भी बोर नहीं होते. अनुराग ने फिल्म से अपनी पकड़ कहीं भी नहीं खोई है. गानों को जरूरत के मुताबिक ही प्रयोग में लाया गया है. इन गानों का म्यूजिक और लिरिक्च शानदार हैं. आपको नए शब्द और अच्छा संगीत सुनने का मौका मिलने वाला है. अमित त्रिवेदी ने संगीत के साथ और इस फिल्म के गीताकर शैली ने शब्दों के साथ बहुत ही उम्दा प्रयोग किए हैं.

एक्टिंग

तापसी पन्नू इन दिनों एक्टिंग के मामले में उफान पर हैं. इस फिल्म में उन्होंने अपनी सधी हुई एक्टिंग से जान डाल दी है. पूरी फिल्म उनके इर्दगिर्द घूमती है और कहीं से भी ऐसा नहीं लगता कि तापसी ने एक्टिंग में अपना जोर कम होने दिया है. तापसी पन्नू को इस फिल्म के लिए इस बार बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड मिल जाए तो ये उनके काम का सही मेहनताना हो सकता है. विकी कौशल गैर जिम्मेदार पंजाबी लड़के के रोल में रच बस गए हैं.

पूरी फिल्म में जब विकी का रोल आता है तो अपने संजीदा अंदाज से वो उसे हाथ से जाने नहीं देते. अभिषेक बच्चन की एक्टिंग सधी हुई है. विदेश से पढ़कर आए लड़के के रोल में वो अच्छे लगे हैं. लेकिन लंदन में बैंक की नौकरी करने वाले एक बैंकर के पास अपनी पत्नी की लव स्टोरी के लिए इतना वक्त है ये बात लॉजिक से थोड़ी ऊपर निकल जाती है. यहां डायरेक्टर साहब अनुराग कश्यप पर अभिषेक के रोल को थोड़ा बैलेंस न कर पाने की तोहमत जरूर लगती है.

कई परतों में बंधी स्टोरी आपको बांधे रखेगी

रूमी और विकी के बीच बार-बार शादी के लिए बहस होना. फिर भी दिल की बात सुनकर रूमी का विकी पर भरोसा करते रहना. विकी का बार-बार अपने वादों से मुकरते जाना. विकी के लिए रूमी का फ्रस्ट्रेशन और बाद में रौबी का रूमी के लिए फ्रस्ट्रेशन स्टोरी में आपको बांधकर रखता है. फिल्म में जल्दी-जल्दी आते गाने बोर होने से बचाते हैं. फिल्म में खूब मसाला है जो आपके मनोरंजन के जायके का स्वाद बढ़ाता रहता है.

डायरेक्शन

अनुराग कश्यप ने मनमर्जियां में अच्छा काम किया है. फिल्म में उनका ट्रीटमेंट लाजवाब है. स्टोरी टैलिंग में वो सफल साबित हुए हैं. इस फिल्म के एक प्रड्यूसर आनंद एल राय भी हैं, जो छोटे शहरों की स्टोरीज को बड़े शहरों के लोगों के दिलों में उतारने में सबसे ज्यादा कामयाब रहे हैं. उनके विजन की छवि इस फिल्म में साफ नजर आती है.

वरडिक्ट

मनमर्जियां आज की टिंडर जेनेरेशन की फिल्म है. इस फिल्म के किरदार भी पहले टिंडर पर ही मिलते हैं. अनुराग इस फिल्म से नया शब्द ‘फ्यार’ लेकर आए हैं जो उनके क्रिएटिव खजाने का एक मोती है. अगर आप इस फिल्म के गाने पहले से ही सुनते आ रहे हैं तो थिएटर्स में जाकर इस फिल्म का मजा आप इस हफ्ते ले सकते हैं. ये फिल्म शब्द मनमर्जियां का बड़ा ही अल्हड़ रूप है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi