S M L

RIP: नहीं रहे भारतीय सिनेमा के गीतकार गोपालदास सक्सेना ‘नीरज’, पीएम मोदी ने किया याद

60-70 के दशक में गोपालदास जी को मुंबई फिल्म ‘नई उमर की नई फसल’ का गीत लिखने के लिए बुलाया गया था

Updated On: Jul 20, 2018 09:40 AM IST

Arbind Verma

0
RIP: नहीं रहे भारतीय सिनेमा के गीतकार गोपालदास सक्सेना ‘नीरज’, पीएम मोदी ने किया याद

भारतीय सिनेमा के एक ऐसे सितारे जो न सिर्फ एक साहित्यकार थे, एक कवि थे, एक लेखक थे बल्कि एक गीतकार भी थे. एक ऐसे गीतकार जिन्हें संगीतकार सचिन देव बर्मन ने जान बूझकर गीत लिखने के लिए मुश्किल परिस्थिति दी लेकिन देखिए इस महान इंसान और गीतकार को जिन्होंने उनसे खीझने की बजाय एक ही रात में ‘रंगीला रे...तेरे रंग में’ जैसा फेमस गाना लिख दिया, जिसे लोग आज भी गुनगुनाते हैं. हम उस शख्स की बात कर रहे हैं, जिनका 93 साल की उम्र में गुरूवार को ही निधन हो गया. उनका नाम था गोपालदास सक्सेना ‘नीरज’.

आम बोलचाल में लिखते थे गीत

साहित्य से लेकर गीत तक में गोपालदास जी बेहद ही सरल भाषा यानि बोलचाल की भाषा में गीतों और कविताओं को लिखा करते थे और इसी वजह से उनकी छवि लोगों के जेहन में भी रही. वो समान रूप से लोकप्रिय थे. 60-70 के दशक में गोपालदास जी को मुंबई फिल्म ‘नई उमर की नई फसल’ का गीत लिखने के लिए बुलाया गया था. अपनी पहली ही फिल्म में उन्होंने ऐसे शब्द बुने कि उनका लिखा पहला गीत ‘कारवां गुजर गया, गुबार देखते रहे’ ही जबरदस्त हिट रहा. ये उनके जीवन का वो गीत था जिसे सुनने के लिए लोग कवि सम्मेलन में उमड़ते थे. उन्होंने इस गीत के अलावे भी कई माइलस्टोन गीत लिखे हैं, जिन्हें लोग आज भी बड़े ही शौक से बजाते हैं और उनकी धुन भी बहुत ही मधुर लगती है.

पीएम मोदी तक ने किया ट्वीट

देवानंद से गोपालदास जी की दोस्ती इस हद तक थी कि देवानंद ने साल 2010 में गोपालदास जी को उसी बिल्डिंग में एक फ्लैट ऑफर की थी जिस बहुमंजिला इमारत में देवानंद ने फ्लैट खरीदा था लेकिन गोपालदास जी ने फ्लैट लेने से मना कर दिया. आज उनके मरणोपरांत कई नामचीन हस्तियां उन्हें याद कर रही हैं, जिनमें प्रसून जोशी से लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी शामिल हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi