S M L

क्या ‘पद्मावती’ को लेकर सेंसर बोर्ड कर रहा है पॉलिटिक्स?

संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती’ को लेकर सेंसर बोर्ड आए दिन नए बहाने बनाता दिखाई दे रहा है

Updated On: Nov 19, 2017 12:32 AM IST

Bharti Dubey

0
क्या ‘पद्मावती’ को लेकर सेंसर बोर्ड कर रहा है पॉलिटिक्स?

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती को लेकर असमंजस अब भी बरकार है. पहले तो मेकर्स को देश भर में राजपूत करणी सेना और हिंदू सेना द्वारा विरोध सहना पड़ा और अब सेंसर बोर्ड भी इस फिल्म को लेकर कहीं न कहीं अपना सख्त रवैया दिखाती नजर आ रही है.

इस फिल्म को सेंसर बोर्ड द्वारा पास सर्टिफिकेट मिलना अभी बाकी लेकिन इससे पहले ही भंसाली ने ये फिल्म इंडस्ट्री में अपने करीबी दोस्तों को दिखाई. बताया जा रहा है कि अब इस बात से सेंसर चीफ प्रसून जोशी नाराज हो उठे हैं. उनका कहना है कि फिल्म को सेंसर से पहले इस तरह से लोगों को दिखाना ठीक नहीं है.

लेकिन सूत्रों की मानें तो भंसाली ने ये फिल्म सिर्फ गिने चुने मीडिया पर्सनालिटीज को दिखाई है. जानकारी के मुताबिक ये स्क्रीनिंग सिर्फ भंसाली के करीबी दोस्तों को प्राइवेट तौर पर दिखाई गई नाकि पब्लिकली.

सूत्रों से पता चला है कि एक तरफ जहां इस फिल्म की रिलीज को अब कुछ ही दिन बचे हुए हैं, सेंसर ने अब तक इसके मेकर्स को इस फिल्म के लिए पास सर्टिफिकेशन नहीं दिया है. यही कारण भी था कि भंसाली ने ये फिल्म कुछ लोगों को दिखाई ताकि ये बात साफ हो सके कि इसमें कोई आपत्तिजनक सीन नहीं हैं. लेकिन सीबीएफसी इस बात को नजरअंदाज करते हुए केवल प्रोसीजर और पॉलिटिक्स का पालन करना चाहती है.

सूत्रों का कहना है कि अगर ये फिल्म समय पर रिलीज नहीं होती है तो इसे कमर्शियली बहुत नुक्सान सहना पड़ सकता है. बता दें कि सलमान खान की फिल्म ‘टाइगर जिंदा है’ के मेकर्स ने अब तक सेंसर सर्टिफिकेट के लिए आवेदन नहीं दिया है.

Tiger Zinda Hai

अब सवाल ये उठता है कि क्या सीबीएफसी ‘टाइगर जिंदा है’ के मेकर्स के साथ भी 68 दिन वाले रूल का पालन करेगी? एक सूत्र ने कहा, “मान लीजिये ‘पद्मावती’ की रिलीज डेट स्थगित करके 24 दिसंबर तय की जाती है तो क्या ‘टाइगर जिंदा है’ की रिलीज डेट भी सेंसर सर्टिफिकेट न मिलने के कारण स्थगित होगी क्योंकि इन्होंने तो अब तक आवेदन ही नहीं किया है. साथ ही सेंसर के कहे नीयम के अनुसार वो पुरानी बेकलोग को क्लियर करेगी इसके बाद ही ‘टाइगर जिंदा है’ का नंबर आएगा. उस हिसाब से तो ‘टाइगर जिंदा है’ के रिलीज में भी देरी होनी चाहिए.

बताया गया कि सेंसर की इस नई प्रक्रिया के चलते वार्नर ब्रदर्स को यहां सबसे ज्यादा नुक्सान झेलना पड़ा है. क्योंकि फिल्म ‘जस्टिस लीग’ के डब्ड वर्जन को पास सर्टिफिकेट नहीं दिया गया ये रिलीज नहीं हो पाई है. इस स्टूडियो के एक करीबी ने बताया कि इस फिल्म ने करीब 78,186,202 रुपयों की कमाई की है. बॉक्स ऑफिस पर इसके कुलमिलाकर 384,988 टिकट्स बिके हैं. इस फिल्म से हुए मुनाफे से इसके मेकर्स को फिर भी 35 से 40 प्रतिशत का नुक्सान हुआ है क्योंकि ये फिल्म अन्य भाषाओँ में रिलीज नहीं हो पाई. कहा जा रहा है कि अगर सेंसर ने जल्द से जल्द इसके डब्ड वर्जन्स को पास नहीं किया तो बॉक्स ऑफिस पर इस फिल्म की ऑडियंस भी खत्म हो जाएगी.

 

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi