विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

फिल्म 'गुड़गांव' देखकर आप रोंमांचित हो जाएंगे : अक्षय ओबरॉय

अक्षय ओबरॉय मानते हैं कि बेव सीरीज के कॉन्टेंट को लोग हाथों-हाथ लेने वाले हैं

Hemant R Sharma Hemant R Sharma Updated On: Jul 31, 2017 09:37 PM IST

0
फिल्म 'गुड़गांव' देखकर आप रोंमांचित हो जाएंगे : अक्षय ओबरॉय

एक्टर अक्षय ओबरॉय अपनी नई फिल्म गुड़गांव के साथ आ गए हैं. अक्षय ने अपने बॉलीवुड करियर की शुरूआत 2010 में फिल्म इसी लाइफ से की थी. इसके बाद उनकी पिज्जा, पीकू, फितूर, लाल रंग के अलावा कई टीवी सीरीज भी आई हैं.

इसी हफ्ते गुड़गांव रिलीज हो रही है. हम आपके लिए लेकर आए हैं उनका एक्सक्लूसिव इंटरव्यू

अक्षय गुड़गांव में अपने रोल के बारे में बताएं

फिल्म गुडगांव शानदार एक्टर्स से जुड़ी एक सस्पेंस थ्रिलर है. इसमें एक किडनैपिंग हुई है. किसने और किस मकसद से ये किडनैपिंग की गई है. इसी का राज इस फिल्म में खुलेगा. ये इस तरह का ड्रामा है जिसे आपने अभी तक किसी और फिल्म में नहीं देखा होगा. मेरा रोल इस फिल्म में पंकज त्रिपाठी के बेटे का है जिसको उनके पिता की संपत्ति और बिजनेस मिलना है लेकिन ऐसा कुछ कारणों से नहीं हो पाता.

अक्षय कुमार की साल में 4 फिल्में आती हैं, अक्षय ओबरॉय की दो साल में एक इसकी क्या वजह है?

अक्षय कुमार बहुत बड़े सुपरस्टार हैं, और मैं अभी सिर्फ एक एक्टर हूं, ऐसा नहीं है कि मेरी दो साल में एक फिल्म आती है अभी पिछले साल लाल रंग आई थी, उससे पहले कैटरीना के साथ फितूर मैंने की थी, फिर दीपिका के साथ पीकू में भी मैंने काम किया. ऐसा नहीं है कि कम फिल्में हैं लेकिन जो भी फिल्में मुझे ऑफर होती हैं मैं उनमें से बेस्ट चुनता हूं. मैं कुछ भी कर लेता हूं. मैं वेब सीरीज के लिए भी ओपन हूं, मैं एक छोटा रोल भी करने को तैयार रहता हूं, जैसा मैंने पीकू में किया था. मुझे एक्टिंग का मौका मिलना चाहिए मैं हमेशा तैयार हूं.

गुड़गांव आपको कैसे और कब मिली?

मैं फितूर की शूटिंग करके अभिषेक कपूर के साथ बैठा था. तभी कमरे में कास्टिंग डायरेक्टर मुकेश छाबड़ा आए. उन्होंने मुझे पढ़ने के लिए एक स्क्रिप्ट दी. जिसे मैंने रात में पढ़ा और मैं थोड़ा डर सा गया क्योंकि मुझे भरोसा नहीं हो रहा था कि मुझे सीधे-सीधे फिल्म ऑफर हो रही है.

क्योंकि मैं थोड़ा डर रहा था इसलिए मैंने ये डिसाइड कर लिया कि ये फिल्म मैं जरूर करुंगा क्योंकि आपने सुना होगा डर के आगे जीत है. मैंने मुकेश को फोन किया और उन्होंने इस फिल्म के डायरेक्टर शंकर से मुझे मिलवाया. शंकर से मिलते ही मुझे उनसे प्यार हो गया. मुझे सपने में जिस तरह के रोल की उम्मीद थी वो मेरे सामने थी. मैं दुनिया भर के लोगों को दिखा सकूं कि ये एक अच्छी फिल्म थी.

शाहरुख खान के सामने 4 अगस्त को ये फिल्म आ रही है, आपने ऐसा डेट क्यों चुना?

मैं मानता हूं कि ये प्रड्यूसर का कॉल होता है. फिर भी ये शाहरुख की फिल्म से एकदम अलग फिल्म है. शाहरुख सर की फिल्म तो वर्ल्डवाइड रिलीज होगी. इम्तियाज, शाहरुख, अनुष्का हर कोई इस फिल्म में सुपरस्टार है. 4000 स्क्रीन्स पर ये फिल्म रिलीज होगी, ऐसे में हमें लगा कि हमारी फिल्म के लिए जरूर स्पेस होगी. मैं दुआ करता हूं कि जब शाहरुख की फिल्म हाउसफुल हो जाएगी तो लोग हमारी फिल्म की टिकट्स के लिए भी लाइन में लग जाएंगे.

Akshay Oberoi 2

फिल्म का प्रमोशन काफी कम किया जा रहा है इसकी क्या वजह है?

नहीं प्रमोशन बिल्कुल कम नहीं हो रहा. मैं, पंकज जी, रागिनी खन्ना हम सब अपनी-अपनी तरह से फिल्म का प्रमोशन कर रहे हैं. लेकिन हमें बहुत प्रमोशन की जरूरत इसलिए नहीं है क्योंकि हमारे डायरेक्टर बड़े लाजवाब हैं. पंकज जी हैं, और भी दूसरे एक्टर्स हैं जिनको अब अपने काम को साबित करने की जरूरत नहीं है.

लोग हमारी फिल्म इसलिए देखने आएंगे क्योंकि यहां पर मंझे हुए एक्टर्स हैं और खुशी-खुशी फिल्म देखकर लौटकर जाएंगे. ये फिल्म बहुत आसानी से अपनी ना सिर्फ कॉस्ट निकालेगी बल्कि धमाकेदार प्रॉफिट भी कमाएगी. स्टोरी, स्क्रीनप्ले, डायरेक्शन सब कुछ शानदार है.

आप टीवी पर फिल्म करने जा रहे हैं? उसके बारे में कुछ बताइए?

ये स्टारप्लस पर आने वाली एक नई फिल्म है. इसे सिर्फ टीवी पर रिलीज किया जाएगा. सुजॉय घोष इस फिल्म को बना रहे हैं और मेरी हीरोइन इसमें पाओली डैम हैं. डायरेक्टर करेंगे प्रीतम दास गुप्ता जो इससे पहले जर्नलिस्ट रह चुके हैं. कलकत्ता में इसका शूट किया जा रहा है.

पंकज त्रिपाठी के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा?

पंकज जी से मुझे बहुत सीखने को मिला और इसे ऐसे भी समझा जा सकता है कि अगर आपका सामने वाला एक्टर अच्छा है तो आपके लिए भी अच्छा करने का चैलेंज बढ़ जाता है. पंकज जी ने इस फिल्म में बहुत अच्छा काम किया है. वो किसी को भी सीरियस नहीं होने देने, उनके साथ काम करके किसी को भी ये नहीं पता चलता कि वो काम कर रहा है बहुत ही लाइव रखते हैं माहौल को.

रागिनी खन्ना आपकी हीरोइन हैं वो टीवी से आती हैं उनके काम के बारे में आप क्या सोचते हैं?

रागिनी के लिए कैमरा कोई नई चीज नहीं है. वो टीवी की बहुत बड़ी स्टार हैं. इस फिल्म में आप उन्हें बहुत अलग रूप में देखेंगे. उन्होंने ये फिल्म की ही इसलिए है क्योंकि उनको कुछ अलग करना था.

आपकी एक और फिल्म आ रही है कालाकांडी इसमें आप सैफ के साथ हैं.

ये तो ऐसी फिल्म है जो इसके टीजर से ही चल जाएगी. इसके फिल्ममेकर वो ही हैं जिन्होंने डेलीबैली बनाई है. वो क्या कैरेक्टर लिखते हैं. इस फिल्म का स्टार तो इसकी स्टोरी है. मेरी इस फिल्म में शादी हो रही है. फिर हम कुछ सामान लेने चले जाते हैं. वेडिंग तक पहुंचते-पहुंचते हमारी लाइफ में क्या होता है कालाकांडी की ये ही स्टोरी है. ये एक वाइल्ड राइड है. डेलीबैली से अलग है लेकिन बहुत मैच्योर है.

वेबसीरीज एक नया प्लेटफॉर्म है इसके बारे में आपकी क्या सोच है?

मेरी सोच इसमें काफी नंबर गेम वाली है. आपको फिल्म देखने जाने के लिए ट्रैफिक से गुजराना पड़ता है. तैयार होना पड़ता है और फिर काफी महंगी टिकिट्स खरीदकर फिल्म देखनी होती है. कैसा रहे अगर ये सब आपको घर पर ही देखने को मिल जाए. आपके मोबाइल फोन पर या आपके लैपटॉप या किसी और डिवाइस पर. वो भी 10% कॉस्ट पर.

आप किसे चुनेंगे. जाहिर है आप अपने घर पर ही फिल्म देखना ज्यादा पसंद करेंगे. वेबसीरीज अब वो रास्ते आपके लिए खोल चुकी है. और ये इसलिए भी हिट है क्योंकि नेटफिलिक्स और अमेजॉन ने इसकी क्वालिटी को इंटरनेशनल लेवल पर पहुंचा दिया है.

इसका तो अभी इंडिया में प्रचार भर होना बाकी है. ये ऐसा माध्यम है कि कभी भी और कहीं भी देखिए. ना पसंद आए तो बंद कर दीजिए. ये फिल्मों को बहुत बड़ा कॉम्पिटीशन देने वाला है. मैंने बारकोड नाम की एक वेबसीरीज कर भी ली है. ये हंगामा के ऐप पर आने वाली है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi