S M L

वेद प्रकाश शर्मा का निधन: जाना 'असली बेस्टसेलर' का

प्री-ऑर्डर और अडवांस बुकिंग वाले जमाने से पहले लोग उनके नॉवेल अडवांस में बुक कराते थे.

Updated On: Feb 18, 2017 11:24 AM IST

Pawas Kumar

0
वेद प्रकाश शर्मा का निधन: जाना 'असली बेस्टसेलर' का

पहली बार वेद प्रकाश शर्मा की वर्दी वाला गुंडा पढ़ी थी तो बहुत छोटा था. उन दिनों घर में छोटे बच्चों का नॉवेल पढ़ना बुरा माना जाता था. सो गांव में दालान के कोने में छुपकर पढ़ा था ये नॉवेल. तब इसे छपे कई साल बीत चुके थे लेकिन इसका नाम हर कोई जानता था. और हर कोई जानता था इसके लेखक का नाम- वेद प्रकाश शर्मा.

कहते हैं कि 1993 में वर्दी वाला गुंडा की पहले ही दिन देशभर में 15 लाख कॉपी बिक गई थीं. मेरठ शहर के सभी बुक स्टॉल से नॉवेल घंटों में गायब थीं. प्री-ऑर्डर और अडवांस बुकिंग वाले आज के 'बेस्टसेलर' जमाने से पहले लोग पहले उनके नॉवेल अडवांस में बुक कराते थे.

जाने-माने उपन्यासकार और लगभग आधा दर्जन फिल्मों के स्क्रिप्ट राइटर वेद प्रकाश शर्मा का शुक्रवार रात निधन हो गया. शर्मा करीबन एक साल से बीमार थे. मेरठ से मुंबई तक इलाज चला, लेकिन शुक्रवार रात उन्होंने अलविदा कह दिया.

06 जून 1955 को जन्मे वेद प्रकाश शर्मा के 'वर्दी वाला गुंडा', 'बहू मांगे इंसाफ' जैसे कई उपन्यासों ने धूम मचा दी थी. पहले दूसरों के लिए 'घोस्ट राइटिंग' की. फिर खुद का नाम मिला. अपने नाम से कुल 173 उपन्यास लिखे.

खिलाड़ी श्रृंखला की फिल्मों के लिए स्क्रिप्ट लिखी. बहू मांगे इंसाफ पर शशिलाल नायर के निर्देशन में बहू की आवाज फिल्म बनी. मेरठ आए आमिर खान की जब उनसे मुलाकात हुई थी, तो उन्होंने एक फिल्म के लिए स्क्रिप्ट लिखने का आग्रह किया था और वेद प्रकाश उस पर काम कर रहे थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi