विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

दिया नहीं था, लूटा गया था कोहिनूर हीरा

कोहीनूर हीरे पर इतिहासकार डैलरिंपल की नई किताब में इसका जिक्र

IANS Updated On: Dec 11, 2016 08:14 PM IST

0
दिया नहीं था, लूटा गया था कोहिनूर हीरा

नई दिल्ली: इतिहासकार और लेखक विलियम डैलरिंपल का कहना है कि कोहिनूर हीरा ब्रिटिश शासक को उपहास्वरूप नहीं दिया गया था, बल्कि वे जबरन इसे भारत से ले गए थे.

डैलरिंपल ने पत्रकार अनिता आनंद के साथ मिलकर इस बहुमूल्य चर्चित रत्न पर एक नई किताब लिखी है. इस हीरे का एक जटिल इतिहास है और यह सदियों से रहस्य का विषय व पहेली बना हुआ है.

डैलरिंपल ने कहा कि 'टावर ऑफ लंदन' में रखा गया सर्वाधिक प्रसिद्ध हीरा 'औपनिवेशिक काल की लूटों का प्रतीक है.'

साल 1989 से भारत में आते-जाते रहने वाले स्कॉटिश इतिहासकार कहते हैं कि उन्होंने 'इस प्रशंसित शाही ट्रॉफी के इतिहास पर लगी धुंध को सफलतापूर्वक हटाकर अफसानों से सच्चाई को निकाल लिया है.'

उन्होंने कहा, ‘इस रत्न को ले जाने के बारे में कोई संदेह नहीं रह गया है. यह कहना बिल्कुल बकवास है कि रंजीत सिंह ने इसे उपहारस्वरूप दिया था.’ अनिता ने भी जताई सहमति 

dalrymple

अनिता आनंद की ट्वीटर वाल से

'कोहिनूर: द स्टोरी आफ वर्ल्ड्स मोस्ट इनफेमस डायमंड' की सह लेखिका एवं ब्रिटिश रेडियो व टीवी पत्रकार अनिता आनंद ने भी डैलरिंपल से सहमति जताई. जगरनॉट प्रकाशन ने इस पुस्तक को प्रकाशित किया है.

उन्होंने कहा, ‘ हम इस बकवास पर आपत्ति जताते हैं कि लोग समझते हैं कि महाराजा रंजीत सिंह ने इसे उपहार में दिया था. इसे उपहार में नहीं दिया गया था. महाराजा इस हीरे को ले जाए जाने से पहले ही मर चुके थे.’

अनिता ने कहा कि दरअसल वह महाराजा रंजीत सिंह के दस वर्षीय पुत्र दलीप सिंह थे जिनके कब्जे से 29 मार्च, 1849 को कोहिनूर छीना गया था.

उन्होंने कहा, ‘वह एक डरे हुए बालक थे. वह ब्रिटिश दबाव के आगे झुक गए.’

उन्होंने इस टिप्पणी को पुस्तक में नए ऐतिहासिक तथ्यों और प्रमाणों के साथ स्थापित किया है और यहा काफी महत्वपूर्ण है, क्योंकि इस साल के शुरू में भारत ने इस रत्न पर फिर से दावा किया है. इस दावे के बाद कोहिनूर ने मीडिया में फिर से खूब सुर्खियां बटोरी थीं.

हालांकि, सरकार ने गत 16 अप्रैल को सर्वोच्च न्यायालय से कहा कि महाराजा रंजीत सिंह ने हीरा पूरी आजादी के साथ अंग्रेजों को दिया था. ब्रिटिश शासकों ने न तो इसे चुराया था और न ही वे इसे जबरन छीन कर ले गए थे.

डैलरिंपल कहते हैं, ‘यह एक गैर ऐतिहासिक बयान है, आश्चर्यजनक ढंग से गैर ऐतिहासिक.’ किताब ने कोहीनूर पर बहस काे फिर हवा दी 

Queen Victoria, 1856 (oil on canvas)

पुस्तक ने एक गरमागरम बहस को फिर से हवा दी है कि क्या हीरा अंतत: भारत वापस लाया भी जाना चाहिए क्योंकि पाकिस्तान, ईरान, अफगानिस्तान और यहां तक की तालिबान भी इसे अपना बता रहे हैं.

कोहिनूर मुगलों, ईरानियों, अफगानियों और सिखों के हाथों से गुजरा. इसका उद्गम आजतक एक रहस्य बना हुआ है.

अनिता आनंद कहती हैं कि भारत से जिस तरह कोहिनूर ले जाया गया, उसे लेकर ब्रिटिश असहज महसूस कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि इस तरह की भावना थी कि यह अनैतिक है. उन्हें अपराध बोध हुआ. महारानी को इतना दोषपूर्ण लगा कि उन्होंने इसे नहीं पहना.

लेकिन, हीरे को अब कहां जाना चाहिए? क्योंकि, इसे लंदन में रखने पर ब्रिटिश सरकार अड़ी हुई है और भारत इस बात पर कायम है कि वह कोहिनूर को वापस लाने की कोशिश करेगा.

डैलरिंपल ने कहा कि हमने कोई पक्ष नहीं लिया है और न ही ले रहे हैं. हम बहुपरतीय हीरे की तरह बहुपरतीय कहानी कहने की कोशिश कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि आप जानते हैं कि भारतीय इसे वापस लाना चाहते हैं और ब्रिटेन वापस लौटाना नहीं चाहता है. ईरानी, अफगानिस्तानी और यह सच है कि तालिबान भी इसे वापस लाना चाहते हैं. सिख वापस लाना चाहते हैं और स्वर्ण मंदिर में रखना चाहते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi