S M L

पुण्यतिथि विशेष कमला दास: कविताएं जो जेहन में उगा देती हैं लाखों सवाल

उन्होंने महिलाओं की सेक्शुएलिटी और इन मुद्दों में अपराध भावना से मुक्ति की सोच अपनी कविताओं में डाली है

Updated On: May 31, 2017 12:45 PM IST

Avinash Dwivedi
लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं

0
पुण्यतिथि विशेष कमला दास: कविताएं जो जेहन में उगा देती हैं लाखों सवाल

कमला दास की पहचान उनकी कविताएं हैं, जो उन्होंने अंग्रेजी में लिखीं. उन्होंने मलयालम में लघु कहानियां और आत्मकथा भी लिखी है. कमला दास कई पत्र-पत्रिकाओं में महिला मुद्दों, बच्चों की देख-रेख और राजनीति सहित तमाम विषयों पर लेख भी लिखा करती थीं.

कमला दास 31 मार्च, 1934 को केरल में पैदा हुई थीं. उन्होंने महिलाओं की सेक्शुएलिटी और उनके लिए इन मुद्दों में अपराध भावना से मुक्ति की जो सोच अपनी कविताओं में डाली है वो कमला दास को भारत की सबसे मुखर लेखिकाओं में से एक बना देता है. कमला दास की मौत 31 मई, 2009 में पुणे में हुई हुई.

उनकी कुछ कविताएं हैं -

For moonless nights, while I walkThe verandah sleepless, aMillion questions awake inMe, and all about him, andThis skin-communicatedThing that I dare not yet inHis presence call our love.6

For moonless nights, while I walkThe verandah sleepless, aMillion questions awake inMe, and all about him, andThis skin-communicatedThing that I dare not yet inHis presence call our love.5

For moonless nights, while I walkThe verandah sleepless, aMillion questions awake inMe, and all about him, andThis skin-communicatedThing that I dare not yet inHis presence call our love.4

For moonless nights, while I walkThe verandah sleepless, aMillion questions awake inMe, and all about him, andThis skin-communicatedThing that I dare not yet inHis presence call our love.2

For moonless nights, while I walkThe verandah sleepless, aMillion questions awake inMe, and all about him, andThis skin-communicatedThing that I dare not yet inHis presence call our love.1

कमला दास की कविता 'प्यार में'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi