S M L

दिल्ली: इलेक्ट्रिक गाड़ियों को चार्ज करने के लिए देना होगा 5 रुपए प्रति यूनिट

जलवायु परिवर्तन संबंधी चुनौतियों को देखते हुए सरकार ने 2030 तक सभी वाहनों को बिजली से चलाने का लक्ष्य रखा है

Updated On: Oct 20, 2017 05:20 PM IST

Bhasha

0
दिल्ली: इलेक्ट्रिक गाड़ियों को चार्ज करने के लिए देना होगा 5 रुपए प्रति यूनिट

अगर आप राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में बिजली से चलने वाला वाहन लेते हैं तो आपको उसे चार्ज कराने के लिए 5.50 रुपए प्रति यूनिट की दर से शुल्क का भुगतान करना होगा. दिल्ली विद्युत नियामक आयोग (डीईआरसी) ने इलेक्ट्रिक वाहनों की चार्जिंग के लिए 5.50 रुपए प्रति यूनिट का शुल्क तय किया है. डीडीएल के सीईओ प्रबीर सिन्हा ने यह जानकारी दी.

जलवायु परिवर्तन संबंधी चुनौतियों को देखते हुए सरकार ने 2030 तक सभी वाहनों को बिजली से चलाने का लक्ष्य रखा है. वहीं अगले तीन से चार साल में डीजल और पेट्रोल से चलने वाले सरकारी वाहनों की जगह इलेक्ट्रिक वाहन लाने की योजना है. इसके लिए ईईएसएल 10,000 इलेक्ट्रिक कार खरीद रही है.

इलेक्ट्रिक वाहनों को चलाने के लिए बैटरी चार्ज करानी होगी. यह माना जा रहा है कि चार्जिंग केंद्र लगाने में बिजली वितरण कंपनियों की अहम भूमिका होगी. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली मे उत्तर और उत्तर पश्चिम भाग में बिजली वितरण का जिम्मा संभाल रही टाटा पावर डीडीएल के प्रमुख सिन्हा ने कहा, ‘हम इलेक्ट्रिक वाहनों की चार्जिंग के लिए जरूरी ढांचागत सुविधा तैयार कर रहे हैं. डीईआरसी ने इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करने के लिए 5.50 रुपए प्रति यूनिट का शुल्क तय किया है.’

100 किलोमीटर चलने के लिए लगभग 42 रुपए खर्च करने होंगे

इलेक्ट्रिक वाहनों पर होने वाले खर्च के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, 'एक गाड़ी को चार्ज करने में 6 से 8 यूनिट लगेगा और इसके जरिए लगभग 100 किलोमीटर तक की यात्रा की जा सकती है. इस लिहाज से आपको 100 किलोमीटर चलने के लिए लगभग 42 रुपए खर्च करने होंगे जो पेट्रोल और डीजल के मुकाबले काफी सस्ता पड़ेगा और वह पर्यावरण अनुकूल भी होगा.’

चार्जिंग में लगने वाले समय के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, 'फास्ट चार्जिग केंद्र इलेक्ट्रिक वाहनों को 30 मिनट में चार्ज कर देते हैं जबकि सामान्य चार्जिंग केंद्र में 6 से 8 घंटे लगते हैं.' सामान्य चार्जिंग केंद्र पर जहां 1,00,000 रुपए तक का खर्च आता है वहीं फास्ट चार्जिग केंद्र लगाने में खर्च थोड़ा अधिक बैठता है. सिन्हा ने कहा, 'अभी राष्ट्रीय राजधानी में हमने पांच जगहों (रोहिणी, दिल्ली विश्वविद्यालय परिसर, पीतमपुरा, शालीमार बाग और मॉडल टाउन) में चार्जिंग केंद्र लगाए हैं. पर अभी गाड़ियों की संख्या बहुत अधिक नहीं है. संख्या बढ़ने पर हम चार्जिंग केंद्रों की संख्या बढ़ाएंगे. वैसे हमारी अगले 5 साल में 1,000 चार्जिंग केंद्र लगाने की योजना है.'

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'हम पार्किंग स्पेस, शॉपिंग मॉल, डीएमआरसी परिसरों में बैटरी चार्जिंग केंद्र लगाएंगे. इसके लिए हम विभिन्न पक्षों के साथ बातचीत कर रहे हैं.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi