S M L

बजट 2018: सैलरी क्लास को मिल सकता है यह तोहफा

सैलरी क्लास को बिजनेस क्लास के बराबर लाने के लिए फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली खर्चों का स्टैंडर्ड डिडक्शन कर सकते हैं

Updated On: Jan 28, 2018 09:11 PM IST

FP Staff

0
बजट 2018: सैलरी क्लास को मिल सकता है यह तोहफा

अगर आप नौकरी करते हैं तो सरकार बजट में आपको शानदार तोहफा दे सकती है. देश के सबसे बड़े टैक्स रिफॉर्म जीएसटी के बाद अगला रिफॉर्म हर महीने वेतन पाने वालों के लिए हो सकती है. ईटी नाउ के मुताबिक, सरकार सैलरी स्ट्रक्चर में बहुत बड़ा बदलाव करने वाली है. इसमें सैलरी क्लास के लिए टैक्स फ्री खर्च के तौर पर स्टैंडर्ड डिडक्शन किया जा सकता है. सूत्रों के मुताबिक, पीएमओ और फाइनेंस मिनिस्ट्री इस पर अभी आखिरी फैसला लेने वाले हैं.

बजट की तमाम खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अगर इस साल बजट में फाइनेंस मिनिस्ट्री अपने भाषण में सैलरी क्लास के लिए इस व्यवस्था का ऐलान नहीं करते हैं तो कम से कम इस बारे में कुछ संकेत जरूर दे सकते हैं. एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी का कहना है, ‘आज पॉलिसीमेकर के तौर पर फाइनेंस मिनिस्टर यह समझते हैं कि जो बिजनेस नहीं करते हैं, सैलरी क्लास हैं उन्हें पर्सनल इनकम टैक्स से राहत चाहिए.’ सैलरी क्लास को स्टैंडर्ड डिडक्शन के साथ इन्हें बिजनेस क्लास के बराबर लाने की कोशिश की जाएगी.

उदाहरण के तौर पर बिजनेसमैन को ऑफिस रेंट, ड्राइवर की सैलरी, ऑफिशियल एंटरटेनमेंट, ट्रैवल जैसे टैक्स फ्री खर्च का फायदा मिलता है. यानी इन चीजों पर खर्च की गई रकम पर बिजनेसमैन को कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ता है. दूसरी तरफ सैलरी क्लास को एलटीए या एचआरए क्लेम करने में भी दिमाग लगाना पड़ता है. एचआरए की जो लिमिट तय है वह पुरानी हो चुकी है. साथ ही सैलरी क्लास के लिए मेडिकल भी 15,000 रुपए सालाना है, जो आज के लाइफस्टाइल के हिसाब से काफी कम है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi