S M L

2000 रुपए के नोट की क्‍या जरूरत थी? : उदय कोटक

कोटक ने दावा किया कि नोटबंदी वित्तीय क्षेत्र के लिए वरदान साबित हुई. उन्होंने कहा कि वित्तीय बचत में वृद्धि अविश्वसनीय है. इससे जोखिम प्रबंधन की चुनौती भी खड़ी हुई है

Updated On: Dec 09, 2018 10:44 PM IST

Bhasha

0
2000 रुपए के नोट की क्‍या जरूरत थी? : उदय कोटक

नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा लागू नोटबंदी के दो साल हो चुके हैं. लेकिन मोदी सरकार को उस फैसले की आंच आज झेलनी पड़ रही है. अब नोटबंदी के फैसले पर करीब दो साल बाद प्रमुख बैंकर उदय कोटक ने अपनी राय रखी है. कोटक ने कहा है कि ‘कुछ सीधी सी बातों’ पर ध्यान दे दिया गया होता तो बड़े मूल्य के नोटों पर पाबंदी के निर्णय का परिणाम ‘काफी अच्छा होता.’ इसी संबंध में उन्होंने 2000 का नया नोट चलन में लाने के पर सवाल उठाया लेकिन कहा कि वित्तीय क्षेत्र के लिए यह एक ‘बड़ा वरदान’ रही.

देश के निजी क्षेत्र के चौथे सबसे बड़े बैंक कोटक महिंद्रा बैंक के कार्यकारी वाइस चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक कोटक ने कहा कि छोटी फर्में इस समय मुश्किलों का सामना कर रही हैं. हालांकि, उन्होंने सरकार द्वारा इस क्षेत्र पर ध्यान देने का स्वागत किया.

बेहतर तरीके से योजना बनाई जानी चाहिए थी:

नोटबंदी पर उन्होंने कहा कि यदि इसकी बेहतर तरीके से योजना बनाई जाती तो इसका नतीजा कुछ और होता. कोटक ने पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सु्ब्रमण्यम की पुस्तक के विमोचन के मौके पर सप्ताहांत कहा, ‘मुझे लगता है कि यदि हम कुछ चीजों पर सोचा होता, तो इसका नतीजा उल्लेखनीय रूप से बेहतर होता. यदि आप 500 और 1,000 का नोट बंद कर रहे हैं, तो 2,000 का नोट शुरू करने की क्या जरूरत थी?’

कोटक ने कहा कि क्रियान्वयन रणनीति के तहत यह सुनिश्चित करना जरूरी था कि सही मूल्य के नोट बड़ी संख्या में उपलब्ध कराए जाते. उन्होंने कहा कि यदि ये सब चीजें की गई होतीं तो आज हम कुछ अलग तरीके से बात कर रहे होते. हालांकि, कोटक ने दावा किया कि नोटबंदी वित्तीय क्षेत्र के लिए वरदान साबित हुई.

उन्होंने कहा कि वित्तीय बचत में वृद्धि अविश्वसनीय है. इससे जोखिम प्रबंधन की चुनौती भी खड़ी हुई है.

ये भी पढ़ें:

जीडीपी पर संदेह दूर करने, भरोसा बढ़ाने के लिए विशेषज्ञ करें जांच: सुब्रमण्यम

भारत के नए मुख्य आर्थिक सलाहकार के प्रोफेसर थे रघुराम राजन, नोटबंदी को कहा था क्रांतिकारी कदम

 

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi