S M L

गूगल के मामले में पिचाई के पास बहुत सारी शक्तियां: रिपोर्ट

पिचाई के पास भी अल्फाबेट के समग्र संसाधनों में से गूगल को संसाधन देने का अधिकार नहीं है

FP Staff Updated On: Feb 28, 2018 03:16 PM IST

0
गूगल के मामले में पिचाई के पास बहुत सारी शक्तियां: रिपोर्ट

गूगल की पैतृक कंपनी अल्फाबेट ने बताया कि कैसे वह अपने दर्जन भर अलग-अलग व्यवसायों के बारे में फैसले करती है. गूगल के मामले में सुंदर पिचाई को कई शक्तियां दी गई हैं. एक मीडिया रिपोर्ट में यह बात कही गई है.

समाचार चैनल सीएनबीसी की एक रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी सुरक्षा और विनिमय आयोग (एसईसी) को दिए गए दस्तावेजों के अनुसार अल्फाबेट ने अपनी वित्तीय स्थिति को गूगल और अन्य कंपनियों में वितरित कर रखा है. अल्फाबेट की अन्य कंपनियों में स्वचालित कार इकाई वायमो और स्वास्थ्यसेवा कंपनी वर्ली समेत 11 विभिन्न कंपनियां शामिल हैं. गूगल ने 2015 के अंतिम महीनों में अपने गठन को बदल कर अल्फाबेट की स्थापना की थी.

पिछले साल एसईसी ने अल्फाबेट से विशिष्ट जानकारियां मांगी थी, जिसमें पूछा गया था कि अल्फाबेट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी लैरी पेज को गूगल के अलग अलग व्यवसायों में निर्णय लेने का कितना अधिकार है. इसके अलावा इसमें पेज तथा अध्यक्ष सर्गी ब्रिन की तुलनात्मक स्थितियों तथा गूगल के सीईओ पिचाई को मिलने वाली विभिन्न प्रकार की सूचनाएं भी मांगी गई थीं.

अल्फाबेट के सीईओ को नियमित तौर पर अल्फाबेट की सभी कंपनियों की वित्तीय स्थिति की जानकारी प्राप्त होती है लेकिन उसके पास गूगल और अन्य कंपनियों के व्यक्तिगत उत्पाद क्षेत्र को संसाधन आवंटित करने का अधिकार नहीं है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि पिचाई के पास भी अल्फाबेट के समग्र संसाधनों में से गूगल को संसाधन देने का अधिकार नहीं है. साथ ही पैतृक कंपनी की अन्य कंपनियों के संबंध में भी अधिकार नहीं है जबकि अल्फाबेट का पूरा लाभ गूगल से ही है. लेकिन गूगल के मामले में पिचाई के पास काफी शक्तियां हैं. उन्हें साप्ताहिक और तिमाही रिपोर्ट प्राप्त होती है, जिसमें यूट्यूब, विज्ञापन और हार्डवेयर सहित गूगल के अलग अलग उत्पादों के कारोबार की जानकारी शामिल होती है. ये रिपोर्टें पेज और सर्गी ब्रिन को प्राप्त नहीं होती है.

गूगल के अंदर यू-ट्यूब और क्लाउड के लिए भी क्रमश: दो अलग अलग सीईओ क्रमश: सूसन वोजीकी और डियानी ग्रीनी भी हैं, लेकिन पिचाई गूगल के अकेले कार्यकारी अधिकारी हैं जो सीधे पेज को रिपोर्ट करते हैं और नियमित तौर पर उनके संपर्क में बने रहते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi