S M L

अविश्वास प्रस्ताव से पहले शेयर बाजार में तेजी, सेंसेक्स 170 अंक की बढ़त पर

अविश्वास प्रस्ताव से पहले घरेलू शेयर बाजार तेजी के साथ कारोबार कर रहे हैं. आईटी, रियल्टी और फार्मा कंपनियों के शेयरों में तेजी है

Updated On: Jul 20, 2018 11:39 AM IST

FP Staff

0
अविश्वास प्रस्ताव से पहले शेयर बाजार में तेजी, सेंसेक्स 170 अंक की बढ़त पर

शुक्रवार को लोकसभा में केंद्र सरकार के खिलाफ विपक्षी पार्टियों द्वारा लाए अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग होगी. सदन में इसपर चर्चा शुरू हो चुकी है. इससे पहले घरेलू शेयर बाजार तेजी के साथ कारोबार कर रहे हैं. आईटी, रियल्टी और फार्मा कंपनियों के शेयरों में तेजी है. बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स फिलहाल (11:00 AM) सेंसेक्स 170 अंक की बढ़त के साथ 36,516 के स्तर पर कारोबार है. वहीं, एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 50 अंक चढ़कर 11,005 के स्तर पर कारोबार कर रहा है.

आईटी, रियल्टी और फार्मा शेयरों में तेजी-आईटी और फार्मा शेयरों में अच्छी खरीदारी देखने को मिल रही है. वहीं एफएमसीजी और मेटल शेयर दबाव में नजर आ रहे हैं. बैंक निफ्टी 0.1 फीसदी की मामूली बढ़त के साथ 26,823 के स्तर पर कारोबार कर रहा है.बाजार में कारोबार के इस दौरान दिग्गज शेयरों में इंफोसिस, आईसीआईसीआई बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज, विप्रो, टेक महिंद्रा और अदानी पोर्ट्स 1.8-1 फीसदी तक उछले हैं. हालांकि दिग्गज शेयरों में बीपीसीएल, एचपीसीएल, वेदांता, आईओसी, यूपीएल, एचडीएफसी, ओएनजीसी, भारती एयरटेल और एशियन पेंट्स 3.5-1 फीसदी तक गिरे हैं.

मिडकैप शेयरों में तेजी के साथ कारोबार- मिडकैप शेयरों में मुथूट फाइनेंस, इंडियन बैंक, बर्जर पेंट्स, अपोलो हॉस्पिटल और पीएनबी हाउसिंग 2.1-1.2 फीसदी तक लुढ़के हैं. हालांकि मिडकैप शेयरों में अदानी पावर, अशोक लेलैंड, ओबेरॉय रियल्टी, आरबीएल बैंक और अजंता फार्मा 3.4-1.7 फीसदी तक चढ़े हैं. स्मॉलकैप शेयरों में 8के माइल्स, पीसी ज्वेलर, उत्तम शुगर, मंगलम ड्रग्स और मन इंडस्ट्रीज 7.25-5 फीसदी तक टूटे हैं. हालांकि स्मॉलकैप शेयरों में एवाएम सिंटेक्स, इंडो टेक ट्रांस, स्टरलाइट टेक, मोल्ड-टेक पैकेजिंग और वी-मार्ट रिटेल 6.5-5 फीसदी तक मजबूत हुए हैं.

पीएम नरेंद्र मोदी ने आज सुबह अविश्वास प्रस्ताव पर ट्वीट करते हुए लिखा, 'आज हमारे संसदीय लोकतंत्र का एक महत्‍वपूर्ण दिन है. मुझे यकीन है कि हमारे साथी सांसद और सहयोगी इस अवसर पर उभरेंगे और व्‍यापक और व्‍यवधान मुक्‍त बहस सुनिश्‍चित करेंगे. हम इसके लिए लोगों और हमारे संविधान के निर्माताओं को इसका श्रेय देते हैं. भारत हमें बारीकी से देखेगा.'

(साभार-न्यूज18)

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi