S M L

किसानों को लुभावने पैकेज देने की चिंताओं के बीच शेयर बाजार गिरा, कमजोर वैश्विक रुख का भी दिखा असर

कंपनियों के तिमाही नतीजे अगले सप्ताह से आने से शुरू होंगे. इसके मद्देनजर भी निवेशकों की गतिविधियों सीमित रहीं.

Updated On: Jan 03, 2019 06:02 PM IST

Bhasha

0
किसानों को लुभावने पैकेज देने की चिंताओं के बीच शेयर बाजार गिरा, कमजोर वैश्विक रुख का भी दिखा असर

आम चुनाव से पहले किसानों को लुभाने के लिए प्रस्तावित पैकेज का राजकोष पर पड़ने वाले असर की चिंता और कमजोर वैश्विक रुख से बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स कारोबारी सप्ताह के चौथे दिन 377 अंक से ज्यादा टूट गया.

गुरुवार के दिन बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 377.81 अंक यानी 1.05 फीसदी के नुकसान से 35,513.71 अंक पर बंद हुआ. इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 120.25 अंक या 1.11 फीसदी टूटकर 10,700 अंक से नीचे 10,672.25 अंक पर बंद हुआ. वहीं एप्पल कंपनी के जरिए अपनी आमदनी के अनुमान को कम करने से वॉल स्ट्रीट पर अचानक बिकवाली का सिलसिला चला. इससे एशिया और यूरोप के बाजारों में गिरावट रही.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और वहां की संसद के शीर्ष नेताओं के बीच सरकार के कामकाज की आंशिक बंदी का हल ढूंढने के लिए हुई बैठक बेनतीजा रही. इससे वैश्विक स्तर पर निवेशकों की धारणा प्रभावित हुई. सेंसेक्स में शामिल कंपनियों में वेदांता, एमएंडएम, ओएनजीसी, टाटा स्टील, एलएंडटी, एचडीएफसी, एनटीपीसी और एक्सिस बैंक के शेयर 3.04 फीसदी तक टूट गए. वहीं दूसरी ओर एचसीएल टेक, बजाज ऑटो, हिंदुस्तान यूनिलीवर और एशियन पेंट्स के शेयरों में आधा फीसदी तक की तेजी देखी गई.

साथ ही ऐसी खबरें हैं कि सरकार किसानों को अन्य प्रोत्साहनों के अलावा प्रति कृषि सत्र 4000 रुपए प्रति एकड़ का प्रत्यक्ष लाभ अंतरण करने पर विचार कर रही है. इससे सरकारी खजाने पर काफी बोझ पड़ेगा. निवेशकों की धारणा पर इसका प्रतिकूल असर पड़ा है. कंपनियों के तिमाही नतीजे अगले सप्ताह से आने से शुरू होंगे. इसके मद्देनजर भी निवेशकों की गतिविधियों सीमित रहीं. कारोबारियों ने कहा कि विदेशी और घरेलू कोषों की बिकवाली से भी शेयर बाजार प्रभावित हुए हैं. वहीं अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में डॉलर के मुकाबले रुपया कुछ गिरावट के साथ 70.26 रुपए प्रति डॉलर पर चल रहा था. ब्रेंट क्रूड वायदा 0.15 फीसदी के नुकसान से 54.83 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया.

यह भी पढ़ें:

कैबिनेट ने 3 बैंकों के विलय को मंजूरी दी, निर्यातकों को मिलेगी 600 करोड़ रुपए की ब्याज सब्सिडी

दिसंबर के दूसरे पखवाड़े में बैंकों की लोन और डिपॉजिट ग्रोथ में इजाफा

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi