S M L

जेपी इंफ्रा नहीं होगी दिवालिया, खरीदारों को मिली राहत

FP Staff Updated On: Sep 04, 2017 01:53 PM IST

0
जेपी इंफ्रा नहीं होगी दिवालिया, खरीदारों को मिली राहत

जेपी इन्‍फ्रा के साथ ही उसके प्रोजेक्‍ट्स में फंसे 32 हजार से अधिक बायर्स को आज बड़ी राहत मिली है. सुप्रीम कोर्ट ने नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्‍यूनल (एनसीएलटी) में कंपनी के खिलाफ चल रही दिवालिया संबंधी कार्यवाही पर स्‍टे लगा दिया है. आईडीबीआई बैंक के 500 करोड़ से अधिक लोन नहीं चुकाने पर कंपनी को डिफॉल्‍टर घोषित किया गया था.

होम बायर्स की याचिका पर आया फैसला

होम बायर्स ने जेपी इन्‍फ्रा के खिलाफ एनसीएलटी में चल रही दिवालिया संबंधी कार्यवाही पर स्‍टे के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. इस फैसला होम बायर्स के इसी आग्रह पर आया है. याचिका देने वाले होम बायर्स ने कोर्ट से कहा था कि जेपी के प्रोजेक्‍ट में जिन 32000 लोगों को फ्लैट्स का पजेशन नहीं मिला है, वे इन्‍सॉल्‍वेंसी ऑर्डर से बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं.

इन्‍सॉल्‍वेंसी फॉर्म को लेकर उलझन

जेपी को दिवालिया घोषित करने की प्रक्रिया शुरू करने के बाद होम बायर्स की उलझन तब और बढ़ गई, जब‍ आईबीबीआई ने पहले से उपलब्‍ध फॉर्म के अलावा क्‍लेम के लिए एक और फॉर्म जारी कर दिया.

होम बायर्स को सबसे अधिक परेशानी

जेपी इन्‍फ्रा के दिवालिया घोषित होने के बाद सबसे अधिक मुश्किलों का सामना होम बायर्स को करना पड़ रहा है. अधिकांश लोगों का कहना है कि उनकी समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर उन्‍हें अब कौन सा रास्‍ता अख्तियार करना चाहिए. नोएडा के सेक्‍टर 128 में कंपनी द्वारा बनाए जा रहे विश टाउन में ही सिर्फ 32,000 अपार्टमेंट्स हैं. इसके अलावा भी कई सारे प्रोजेक्‍ट्स में कई हजार बायर्स फंसे हुए हैं. कुल बायर्स की संख्‍या 40 हजार से भी अधिक बताई जा रही है.

बायर्स के पास ये हैं उपाय

नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्‍यूनल (एनसीएलटी) ने जेपी इन्‍फ्राटेक के लिए एक इन्‍सॉल्‍वेंसी प्रोफेशनल की नियुक्ति कर दी थी. ट्रिब्‍यूनल ने जेपी के प्रोजेक्‍ट में फ्लैट बुक कराने वाले हजारों बायर्स को अपने फ्लैट या प्‍लॉट का क्‍लेम करने के लिए 2 सप्‍ताह का समय दिया.

9 महीने के बाद नीलामी

एनसीएलटी ने अनुज जैन को कंपनी का सीईओ नियुक्‍त किया था. कंपनी को पटरी पर लाने के लिए जैन को 6 महीने का समय दिया गया है, जिसे 3 महीने और बढ़ाया जा सकता है. उसके बाद कंपनी के एसेट्स को बेचकर बैंक के पैसे रिकवर किए जाएंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi