S M L

2019 में रुपया कर सकता है रिकवरी, इन फैक्टर्स पर रहेगी नजर

2019 की पहली तिमाही में रुपया सर्वोच्च स्थान पर रह सकता है. कच्चे तेल की कीमतों में आ रही गिरावट के चलते यह उम्मीद की जा रही है.

Updated On: Dec 20, 2018 04:04 PM IST

FP Staff

0
2019 में रुपया कर सकता है रिकवरी, इन फैक्टर्स पर रहेगी नजर

2019 की पहली तिमाही में रुपया सर्वोच्च स्थान पर रह सकता है. कच्चे तेल की कीमतों में आ रही गिरावट के चलते यह उम्मीद की जा रही है. वहीं रुपया मंगलवार को पांच साल के सर्वाधिक उच्च शिखर पर बंद हुआ था.

कच्चे तेल में नरमी के कारण भारत के व्यापार घाटा को लेकर चिंता कम हुई है. साथ ही रुपया मंगलवार को डॉलर के मुकाबले 112 पैसे के जोरदार उछाल के साथ 70.44 डॉलर पर बंद हुआ था. यह भी भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर सकारात्मक नजरिए से देखा जा रहा है. जानकारों का कहना है कि रुपया 2018 के मुकाबले 2019 में और मजबूत हो सकता है. जिससे कारोबारियों और आम आदमियों दोनों को राहत मिलने के आसार हैं.

कच्चा तेल

वहीं नोमुरा के अर्थशास्त्री दुष्यंत पदमनाभन का कहना है कि कच्चे तेल की कीमतों के साथ ही कंपनियों के पोर्टफोलियो में बढ़ोतरी होने की संभावना है. दूसरी तरफ तेल के सस्ता होने से आरबीआई भी ब्याज दरें सस्ती कर सकता है. ऐसे में भारतीय रुपए में अगले साल अच्छी रिकवरी देखने को मिलेगी.

केंद्र में सरकार

बाजार के जानकारों का मानना है कि अगर बीजेपी सरकार केंद्र में साल 2019 में फिर से सरकार बनाती है तो रुपए में मजबूती आ सकती है लेकिन वहीं अगर बीजेपी की सरकार साल 2019 में फिर से नहीं आती है तो रुपए में कमजोरी आने की संभावना बन जाएगी.

जानकारों का कहना है कि 2019-20 में रुपया 71 से शुरू होकर साल के आखिर तक 68 के स्तर पर पहुंच सकता है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि दूसरे कारक भी स्थिर बने रहे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi