S M L

RBI के मॉनिटरी पॉलिसी रिव्यू में पॉलिसी रेट के यथावत रहने की उम्मीद- विशेषज्ञ

रिजर्व बैंक के गवर्नर ऊर्जित पटेल की अध्यक्षता वाली मॉनिटरी पॉलिसी समिति की तीन दिवसीय बैठक मुंबई में सोमवार से शुरू होगी

Updated On: Jul 29, 2018 03:23 PM IST

Bhasha

0
RBI के मॉनिटरी पॉलिसी रिव्यू में पॉलिसी रेट के यथावत रहने की उम्मीद- विशेषज्ञ

विशेषज्ञों का मानना है कि कच्चे तेल की बढ़ी कीमतें और खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में तीव्र वृद्धि की घोषणा के बावजूद रिजर्व बैंक बुधवार को होने वाली मॉनिटरी पॉलिसी रिव्यू में मुख्य ब्याज दर यथावत रख सकता है.

रिजर्व बैंक ने जून में हुई पिछली मॉनिटरी पॉलिसी रिव्यू में मुख्य ब्याज दर रेपो को 0.25 प्रतिशत बढ़ाकर 6.25 प्रतिशत कर दिया था.

रिजर्व बैंक के गवर्नर ऊर्जित पटेल की अध्यक्षता वाली मॉनिटरी पॉलिसी समिति की तीन दिवसीय बैठक मुंबई में सोमवार से शुरू होगी. वित्त वर्ष 2018-19 की तीसरी मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक के निर्णय को एक अगस्त दोपहर में सार्वजनिक किया जाएगा.

देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) का मानना है कि रिजर्व बैंक ऐसे मौके पर एक और बार दर में वृद्धि नहीं करने वाला है. उसने एक रिपोर्ट में कहा, ‘हमारा मानना है कि अगस्त की मॉनिटरी पॉलिसी रिव्यू में कोई निर्णय करना काफी करीबी मामला हो सकता है, फिर भी हमें उम्मीद है कि नीतिगत दर में वृद्धि करने के बजाय यथास्थिति बनाए रखना बेहतर विकल्प होगा.’

एसबीआई के अनुसार मुद्रास्फीति का जोखिम अभी संतुलित दायरे में है.

एडेलवीस सिक्योरिटीज ने कहा, ‘आगामी मॉनिटरी पॉलिसी रिव्यू में हम मॉनिटरी पॉलिसी समिति से दरों में कोई बदलाव किए बिना तटस्थ रुख बनाए रखने की उम्मीद करते हैं.’

हालांकि, वैश्विक वित्तीय सेवा कंपनी डीबीएस ने कहा, इस वित्त वर्ष में रिजर्व बैंक आगे भी दरें बढ़ाना जारी रखेगा और अगस्त बैठक में अगली वृद्धि होगी. डीबीएस की अर्थशास्त्री राधिका राव ने कहा, ‘हमारा अनुमान है कि इस वित्त वर्ष में 50 आधार अंक की और वृद्धि होगी और अगली वृद्धि अगस्त में होगी.’

निजी क्षेत्र के एचडीएफसी बैंक के अनुसार, दरों में वृद्धि रिजर्व बैंक के लिए करीबी मामला होगा. हालांकि, मॉनिटरी पॉलिसी समिति आगामी बैठक में दरों को यथावत बनाए रखेगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi