S M L

कैपिटल फंड कम करना बैंक और अर्थव्यवस्था के लिए घातक: RBI

रिपोर्ट में चेतावनी देते हुए कहा है कि इस लिहाज से बासेल के जोखिम प्रबंधन नियमों को ही लागू करना हमारे बैंकों की ऋण संपत्तियों के वास्तविक जोखिम को कम करके आंक सकता है.

Updated On: Dec 28, 2018 10:52 PM IST

Bhasha

0
कैपिटल फंड कम करना बैंक और अर्थव्यवस्था के लिए घातक: RBI

रिजर्व बैंक ने कहा है कि ऊंचे फंसे कर्ज और उसे कवर करने के लिए अपर्याप्त प्रावधान होने के साथ-साथ पूंजी संबंधी नियामकीय जरूरतों और जोखिम पूंजी नियमों में किसी भी तरह की रियायत दिया जाना बैंकों के साथ ही समूची अर्थव्यवस्था के लिए घातक हो सकता है. रिजर्व बैंक की ताजा रिपोर्ट में यह कहा गया है.

बासेल- तीन नियमों में विभिन्न प्रकार के कर्ज के लिए जोखिम प्रावधान की सिफारिश की गई है. ये सिफारिशें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देखी गई सकल डिफाल्ट दर (सीडीआर) और रिकवरी दर के आधार पर की गई हैं. लेकिन भारत में ये दरें अंतर्राष्ट्रीय औसत के मुकाबले काफी ऊंची हैं. रिजर्व बैंक की 'बैंकिंग क्षेत्र में रुझान एवं प्रगति' नामक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है.

रिपोर्ट में चेतावनी देते हुए कहा है कि इस लिहाज से बासेल के जोखिम प्रबंधन नियमों को ही लागू करना हमारे बैंकों की ऋण संपत्तियों के वास्तविक जोखिम को कम करके आंक सकता है. इसमें कहा गया है कि फंसे कर्ज के समक्ष जरूरी प्रावधान का मौजूदा स्तर हो सकता है कि संभावित नुकसान को पूरा करने के लिए काफी नहीं हो. ऐसे में संभावित नुकसान को खपाने के लिए पूंजी की पर्याप्तता एक महत्वपूर्ण मुद्दा बन गया है.

उपयुक्त पूंजी स्तर अनुपात की कमी

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस बात को मानने की जरूरत है कि घरेलू बैंकिंग प्रणाली में फंसे कर्ज के सामने उचित प्रावधान और उसके सामने उपयुक्त पूंजी स्तर अनुपात की कमी बनी हुई है. हालांकि, दिवाला और ऋण शोधन अक्षमता संहिता (आईबीसी) और फंसी संपत्तियों के समाधान के लिए रिजर्व बैंक की संशोधित रूपरेखा से इस स्थिति में कुछ सुधार आया है.

रिपोर्ट में इस बात पर भी गौर किया गया है कि कुछ बैंकरों की तरफ से नियामकीय पूंजी आवश्यकताओं को कम करने पर जोर दिया गया है. वित्त मंत्रालय का एक वर्ग भी इस पर जोर दे रहा है. रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर उर्जित पटेल और सरकार के बीच यह तनाव का मुद्दा रहा है. इसके चलते ही इसी महीने उर्जित पटेल ने अचानक पद से इस्तीफा दे दिया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi