live
S M L

पीएनबी घोटाला: सात साल से चल रहा है यह घोटाला

तय गाइडलाइंस के मुताबिक जेम्स एंड ज्वैलरी क्षेत्र के एलओयू को भुनाने की समयसीमा 90 दिन है, 365 दिन नहीं

Updated On: Feb 18, 2018 09:22 PM IST

Bhasha

0
पीएनबी घोटाला: सात साल से चल रहा है यह घोटाला

पंजाब नेशनल बैंक के11,400 करोड़ रुपए के घोटाले की जांच तेज हो गई है. सूत्रों का कहना है कि अन्य बैंकों के अधिकारी भी जांच के घेरे में हैं. जिन बैंकों की विदेशी शाखाओं से पीएनबी के जाली लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (एलओयू) के जरिए कर्ज दिया गया, उनके अधिकारी भी जांच के घेरे में हैं.

 

सूत्रों के मुताबिक, भारतीय बैंकों में इलाहाबाद बैंक, भारतीय स्टेट बैंक, यूनियन बैंक, यूको बैंक और एक्सिस बैंक की हांगकांग शाखाओं के अधिकारी इस पूरे घोटाले में शामिल हैं. यह घोटाला पिछले सात साल से चल रहा था.

क्या है एलओयू भुनाने की गाइडलाइंस?

तय गाइडलाइंस के मुताबिक, रत्न एवं आभूषण क्षेत्र के एलओयू को भुनाने की समयसीमा 90 दिन है, 365 दिन नहीं. जबकि पीएनबी घोटाले से जुड़े ज्यादातर एलओयू में दिखाया गया है कि एलओयू भुनाने की सीमा एक साल है.

365 दिन के लिए जारी एलओयू के मद्देनजर हांगकांग में अन्य बैंकों की शाखाओं के अधिकारियों को सचेत होना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. यह मामला तभी सामने आया जबकि पीएनबी ने पिछले महीने उसकी मुंबई की ब्रैडी हाउस शाखा की ओर से जारी एलओयू को मानने से इनकार कर दिया. सूत्रों ने बताया कि यदि किसी ने सतर्कता दिखाई होती तो घोटाले की राशि इतनी अधिक नहीं पहुंचती.

किसको कितना घाटा?

हांगकांग में 11 भारतीय बैंकों का बिजनेस है. वहां इलाहाबाद बैंक, यूको बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, एक्सिस बैंक, एसबीआई, बैंक ऑफ इंडिया, बैंक आफ बड़ौदा, केनरा बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और इंडियन ओवरसीज बैंक की शाखाएं हैं.

इनमें से एसबीआई ने पहले ही घोषणा कर दी है कि उसने पीएनबी घोटाले में शामिल नीरव मोदी से जुड़ी कंपनियों को 21.2 करोड़ डॉलर का लोन दिया है. इसी तरह यूनियन बैंक आफ इंडिया ने 30 करोड़ डॉलर और यूको बैंक ने 41.18 करोड़ डॉलर का कर्ज दिया है. माना जाता है कि इलाहाबाद बैंक का इस मामले में करीब 2,000 करोड़ रुपए फंसा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi