S M L

नीरव मोदी से पहले कितने लोग पैसा लेकर फरार हैं!

नीरव मोदी पहले ऐसे अरबपति नहीं है जो किसी फर्जीवाड़े में नाम आने पर देश छोड़ कर भाग गए हो बल्कि ऐसे ही कई और नाम भी हैं

Updated On: Feb 15, 2018 04:35 PM IST

FP Staff

0
नीरव मोदी से पहले कितने लोग पैसा लेकर फरार हैं!
Loading...

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में 11 हजार 360 करोड़ रुपए के फर्जी लेनदने के मामले में मुख्य आरोपी के तौर पर नामित किए गए ज्वेलरी डिजाइन नीरव मोदी पहले ऐसे अरबपति नहीं हैं जो इस तरह के मामले में नाम आने के बाद देश छोड़ विदेश चले गए हो. अपने देश में ऐसे ही रिकॉर्ड रखने वाले कई और नाम भी हैं. आइए जानते हैं ऐसे ही अरबपतियों के बारे में...

यह भी पढ़ें: पंजाब नेशनल बैंक स्कैम: बैंक को चूना लगाने वाला नीरव मोदी कौन है?

विजय माल्या

इस लिस्ट में सबसे चर्चित नाम है विजय माल्या का. शराब व्यापारी विजय माल्या ऐसे ही कई मामलों का सामना कर रहे हैं. उनकी कंपनियां भारतीय बैंकों से 9 हजार करोड़ रुपए का लिया कर्ज नहीं चुका पाई हैं.

vijay mallya

पैसे नहीं चुका पाने के कारण जब देश के बैकों ने मार्च 2016 में माल्या को देश से बाहर जाने से रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया तब तक वह विदेश जा चुके थे. माल्या फिलहाल लंदन में हैं और वहां के कोर्ट में उनका मामला चल रहा है. माल्या वहां शानदार जिंदगी जी रहे हैं. कोर्ट ने भी उनके साप्ताहिक भत्ते को 3 गुना बढ़ा दिया है.

माल्या को पिछले साल गिरफ्तार किया गया था लेकिन गिरफ्तार होने के कुछ ही समय में उन्हें बेल भी मिल गई.

ललित मोदी

2010 के आईपीएल सीजन में कोच्चि अतिरिक्त टीम के रूप में जुड़ी थी. ललित मोदी ने उस टीम के स्वामित्व का विवरण सामने आने दिया जो गोपनीयता भंग करने वाला था. इसके बाद उनके खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी किया गया और आपीएल से बर्खास्त कर दिया गया. अपने परिवार की सुरक्षा का हवाला देते हुए ललित मोदी इंग्लैंड भाग गए.

lalit modi

2011 में उनके पासपोर्ट को रद्द कर दिया गया. आईपीएल चेयरमैन रहते हुए फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट (फेमा) संबंधित नियमों का उल्लंघन करने के मामले में उनके खिलाफ इंटरपोल का उनके ब्लू कॉर्नर नोटिस ईडी को मिला. मोदी ने ब्रिटेन में रहते हुए ईडी के नोटिस को लंदन के अदालत में चुनौती दी.

दीपक तलवार

कॉर्पोरेट सलाहकार दीपक तलवार पर आयकर विभाग ने पांच शिकायतें दर्ज कराई हैं. तलवार पर दुनिया भर के टैक्स हैवेन देशों में व्यक्तिगत और कॉर्पोरेट बैंकों के खातों को नियंत्रित करने के लिए सैकड़ो करोड़ रुपए तक के रिश्वत लेने का आरोप है.

इनकम टैक्स अधिकारियों के मुताबिक, जांच में पता चला कि कुछ एयरलाइंस और एविएशन कंपनियों को यूपीए सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों के देखरेख में अनावश्यक मदद दी गई थी. जब तक यह मामला खुलता उससे पहले ही तलवार भारत छोड़ दूसरे देश चले गए. फिलहाल वह यूएई में हैं. वहां उनके देश छोड़ के जाने पर रोक लगाई गई है.

संजय भंडारी

आयकर विभाग भंडारी और ऑफसेट कंपनियों के खिलाफ टैक्स चोरी के मामले की जांच कर रहा था. इसी जांच में रेड के दौरान रक्षा मंत्रालय के कुछ गोपनीय दस्तावेज हाथ लगे. दस्तावेज कथित तौर पर रक्षा खरीद के प्रस्तावों से संबंधित थे और रक्षा अधिग्रहण परिषद (डीसीए) के समक्ष रखे गए थे. इनमें कथित तौर पर वह दस्तावेज भी था जिनमें कॉन्ट्रैक्ट निगोसिएशन कमिटी की बैठक के मिनट भी थे.

इस साल के शुरुआत में विवादित हथियार डीलर संजय भंडारी को दिल्ली की एक अदालत ने आफिशियल सिक्रेट एक्ट के मामले के तहत अपराधी घोषित कर दिया. आयकर विभाग के रेड के दौरान उसके यहां से मिले दस्तावेजों के कारण यह किया गया. बताया जाता है कि वह नेपाल के जरिए देश छोड़ भाग गया है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi