live
S M L

पीएनबी स्कैम: 200 शेल कंपनियां और बेनामी संपत्तियों पर ED की नजर

Updated On: Feb 18, 2018 09:13 PM IST

Bhasha

0
पीएनबी स्कैम: 200 शेल कंपनियां और बेनामी संपत्तियों पर ED की नजर

कम से कम 200 शेल कंपनियों और ‘बेनामी’ संपत्तियां जांच एजेंसियों की जांच के दायरे में हैं. ये जांच एजेंसियां पीएनबी में 11 हजार 400 करोड़ रुपए की कथित धोखाधड़ी की जांच कर रही हैं. इनमें हीरा कारोबारी नीरव मोदी, उसके रिश्तेदार और व्यापारिक भागीदार मेहुल चोकसी और अन्य के शामिल होने का आरोप है.

ईडी ने मोदी, चोकसी और उनकी कंपनियों की लगातार चौथे दिन तलाशी जारी रखी. प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉउंड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत ईडी कम से कम दो दर्जन अचल संपत्तियों को कुर्क करने जा रही है. ईडी ने रविवार को देशभर में आभूषण शोरूम और कार्यशालाओं समेत कम से कम 45 जगहों पर छापेमारी की.

ईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘आयकर विभाग ने मोदी, उनके परिवार के सदस्यों और कंपनियों की जिन 29 संपत्तियों को अस्थायी तौर पर कुर्क किया है उसका पीएमएलए के तहत ईडी आकलन कर रही है. पीएमएलए के तहत शीघ्र कुछ और संपत्तियों को भी कुर्क किया जाएगा.’

उन्होंने कहा कि ईडी और आयकर विभाग ने देश और विदेश में 200 डमी या शेल कंपनियों पर ध्यान केंद्रित किया है, जिनका इस्तेमाल कथित धोखाधड़ी के हिस्से के रूप में धन को भेजने या हासिल करने में किया जाता था.

इस बात का संदेह है कि इन शेल कंपनियों का इस्तेमाल आरोपी जमीन, सोना और बेशकीमती रत्नों के रूप में ‘बेनामी’ संपत्ति खरीदने में कर रहे थे. इसकी आयकर विभाग अब जांच कर रहा है.

विशेष जांच दलों का गठन 

सूत्रों ने बताया कि ईडी और आयकर विभाग ने मामले की जांच के लिये विशेष दलों का गठन किया था. ईडी ने अब तक मामले में 5674 करोड़ रुपए के हीरे, सोने के जेवर और बेशकीमती रत्न जब्त किए हैं.

आयकर विभाग ने कर चोरी की जांच के सिलसिले में गीतांजलि जेम्स, इसके प्रमोटर मेहुल चोकसी और अन्य के नौ बैंक खातों से लेन-देन पर कल रोक लगा दी थी. उसने मोदी, उनके परिवार के सदस्यों और उनके स्वामित्व वाले फर्मों की 29 संपत्तियां कुर्क कर ली थीं और 105 बैंक खातों से लेन-देन पर रोक लगा दी थी.

पीएनबी की शिकायत के बाद यह मामला सामने आने पर मोदी, चोकसी और अन्य की कई जांच एजेंसियां जांच कर रही हैं. पीएनबी ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया था कि इन लोगों ने बैंक के कुछ कर्मचारियों की मिलीभगत से राष्ट्रीयकृत बैंक को 11 हजार 400 करोड़ रुपए का चूना लगाया. सीबीआई इस मामले की जांच कर रही है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi