S M L

साल का पहला इंटरव्यू: नोटबंदी 'झटका' नहीं था, एक साल पहले ही दे दी थी चेतावनी

PM Narendra Modi Interview: पीएम मोदी ने कहा, मैं पहली बार यह खुलासा कर रहा हूं कि उर्जित पटेल ने इस्तीफा देने कीबात मुझसे 6-7 महीने पहले ही कह दिया था

Updated On: Jan 01, 2019 07:05 PM IST

FP Staff

0
साल का पहला इंटरव्यू: नोटबंदी 'झटका' नहीं था, एक साल पहले ही दे दी थी चेतावनी

नए साल के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने इंटरव्यू कई मुद्दों पर खुलकर बात की. इसमें राम मंदिर पर अध्यादेश लाने, सर्जिकल स्ट्राइक और हाल ही में इस्तीफा देने वाले RBI के गवर्नर उर्जित पटेल का मुद्दा भी शामिल है.

यह भी पढ़ें: कानूनी प्रकिया पूरी होने के बाद कर सकते हैं अध्यादेश पर विचार

उर्जित पटेल के इस्तीफा देने के बाद यह खबरें आई थीं कि RBI के सरप्लस फंड को लेकर केंद्र के साथ मनमुटाव की वजह से पटेल ने पद छोड़ दिया. इस पर न्यूज एजेंसी ANI को दिए खास इंटरव्यू में मोदी ने कहा, उर्जित पटेल ने अपने निजी कारणों की वजह से इस्तीफा दिया था. मैं पहली बार यह खुलासा कर रहा हूं कि उन्होंने यह बात मुझसे 6-7 महीने पहले ही कह दिया था. यहां तक कि उन्होंने यह बात मुझे लिखकर दिया था. उनपर किसी तरह का कोई राजनीतिक दबाव नहीं था. आरबीआई के गवर्नर के तौर पर उन्होंने काफी अच्छा काम किया था.

यह भी पढ़े: सर्जिकल स्ट्राइक पर जाने से पहले पीएम मोदी ने जवानों से क्या कहा था?

नोटबंदी झटका नहीं था

नोटबंदी करने के दो साल बाद पीएम मोदी ने इस मुद्दे पर भी खुलकर अपनी बात कही. उन्होंने कहा, 'नोटबंदी झटका नहीं था. हमने करीब एक साल पहले ही लोगों को इस बात की चेतावनी दे दी थी कि अगर आपके पास ब्लैकमनी है तो आप पर जुर्माना लग सकता है.'

हालांकि उन्हें लगा कि दूसरे लोगों की तरह मोदी भी 'स्वैच्छिक' तरीके से लोगों को ब्लैकमनी का खुलासा करने को कहेंगे. लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

कांग्रेस पर मोदी का वार 

यह फैक्ट है कि जो लोग देश के पहले परिवार के तौर पर जाने जाते थे. वो परिवार जिसने 4 पीढ़ियों तक देश पर शासन किया, वो वित्तीय गड़बड़ियों के मामले में फंसे हैं और फिलहाल बेल पर बाहर हैं. यह बहुत बड़ी बात है. कुछ लोग जो उनकी सेवा में लगे हैं वो ऐसी सूचनाओं को दबाकर अलग माहौल बनाने की कोशिश कर रहे हैं.

चुनावी हार पर 

बीते साल 2018 के बारे में नरेंद्र मोदी ने कहा, यह कामयाबी भरा साल रहा. चुनाव सिर्फ एक पहलू है. गरीबों को आयुष्मान भारत योजना के तहत 5 लाख रुपए तक का इंश्योरेंस दिया जा रहा है. बड़ी तादाद में ऐसे लोग बीमार हैं. इन्हें आज मुफ्त इलाज मिल रहा है. ऐसे में मैं कैसे कह दूं कि यह साल नाकामी भरा रहा?

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में हार पर नरेंद्र मोदी ने कहा, तेलंगाना और मिजोरम में  बीजेपी को कभी मौका नहीं मिला था. छत्तीसगढ़ में स्पष्ट जनादेश था. लेकिन बीजेपी हार गई. लेकिन दो राज्यों में हंग असेंबली थी. दूसरी बात यह कि 15 साल के बाद सत्ताविरोधी लहरों की वजह से हमें हार का मुंह देखना पड़ा. हम उन मुद्दों पर चर्चा कर रहे हैं जिनकी वजह से हमें हार का मुंह देखना पड़ा.

कांग्रेस मुक्त भारत पर

यहां तक कि कांग्रेस से जुड़े लोग भी कहते हैं कि कांग्रेस एक विचार है. एक कल्चर है. जब मैं कांग्रेस मुक्त देश की बात करता हूं तो मेरा मायना इस कल्चर और विचार से होता है. और मेरा यह कहना है कि कांग्रेस को भी इस कल्चर से मुक्त होना चाहिए.

भगोड़ों को एक-एक पैसे का हिसाब देना होगा

इस सरकार के कार्यकाल के दौरान जो लोग भागे हैं उन्हें हम आज या कल वापस लेकर आएंगे. डिप्लोमैटिक तरीके से, कानूनी तरीके से और उनकी प्रॉपर्टी जब्त करके हम उन्हें वापस लाने की पूरी कोशिश करेंगे. जिन लोगों ने भारत का पैसा चुराया है उन्हें एक-एक पैसे का हिसाब देना होगा.

जीएसटी पर क्या कहा?

राहुल गांधी GST को 'गब्बर सिंह टैक्स कहते हैं.' जो जैसा सोचता है, वो वैसा ही बोलता है. क्या जीएसटी लागू करने से पहले सभी पार्टियों की राय नहीं ली गई थी? जब प्रणब मुखर्जी फाइनेंस मिनिस्टर थे तब से GST को लागू करने की प्रक्रिया चल रही थी. उन्होंने कहा कि आगे उनकी योजना कंस्ट्रक्शन से जुड़े मटीरियल को 5 फीसदी के स्लैब में लाने की है.

किसानों का लोन माफ करने पर

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस ने किसानों को कर्ज माफी का तोहफा दिया था. इस पर पीएम मोदी ने कहा, यह एक झूठ है. इसे मैं लॉलीपॉप कहूंगा. यह एक झूठ है कि वह किसानों का कर्ज माफ कर रही है. सच्चाई यह है कि ऐसा कुछ नहीं होने वाला है. उनके अपने सर्कुलर देखिए. वह लोगों को बरगला रहे हैं.

मिडिल क्लास के लिए

मिडिल क्लास के लिए हमें अपनी सोच बदलनी होगी. मिडिल क्लास कभी किसी की दया पर नहीं रहता. वे आत्मसम्मान के साथ जीते हैं और देश को चलाने में सहयोग करते हैं.

पूरा इंटरव्यू यहां देखें

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi