S M L

एक फरवरी को पीयूष गोयल पेश करेंगे अंतरिम बजट, किसानों, मिडिल क्लास को मिल सकती हैं सौगातें

अरुण जेटली के इलाज के लिए अमेरिका जाने के बाद पिछले सप्ताह ही रेल मंत्री पीयूष गोयल को वित्त मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया

Updated On: Jan 30, 2019 10:03 PM IST

Bhasha

0
एक फरवरी को पीयूष गोयल पेश करेंगे अंतरिम बजट, किसानों, मिडिल क्लास को मिल सकती हैं सौगातें

आम चुनाव से पहले केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार एक फरवरी को अंतरिम बजट पेश करेगी. माना जा रहा है कि इस बजट में किसानों और मध्यम वर्ग को ध्यान में रखते हुए कुछ घोषणाएं की जा सकती हैं. जानकार सूत्रों के मुताबिक इसमें आयकर छूट सीमा बढ़ाने, गरीबों के लिए न्यूनतम आय योजना और किसानों के लिए सहायता पैकेज सहित कई तरह की लोक लुभावन घोषणाएं की जा सकती हैं.

हालांकि, आगामी बजट सत्र के दौरान मात्र चार महीने के वोट ऑन अकाउंट को ही मंजूरी दी जाएगी. चुनाव के बाद सत्ता में आने वाली नई सरकार ही पूर्ण बजट पेश करेगी. नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र की एनडीए सरकार के मौजूदा कार्यकाल का यह अंतिम बजट होगा.

इस बार पीयूष गोयल पेश करेंगे बजट 

वित्त मंत्रालय का कामकाज देख रहे अंतरिम वित्त मंत्री पीयूष गोयल यह बजट पेश करेंगे. अरुण जेटली के इलाज के लिए अमेरिका जाने के बाद पिछले सप्ताह ही रेल मंत्री पीयूष गोयल को वित्त मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया. इससे पहले वित्त मंत्री रहते हुए जेटली ने पांच बजट पेश किए हैं.

बजट को लेकर इससे पहले उस समय भ्रम की स्थिति बन गई थी जब वाणिज्य मंत्रालय ने मीडिया को भेजे एक व्हॉट्सएप संदेश में, '2019-20 के बजट को अंतरिम बजट न बताकर इसे 2019-20 के आम बजट के तौर पर बताया.’ हालांकि, वित्त मंत्रालय ने बाद में स्पष्ट करते हुए कहा कि यह अंतरिम बजट ही होगा.

बजट को लेकर बन गई थी भ्रम की स्थिति

राजनीतिक गलियारों में भी इसको लेकर भ्रम की स्थिति बन गई कि सरकार आम चुनाव से पहले अंतरिम बजट पेश करने की परंपरा से हटकर पूर्ण बजट पेश कर सकती है. मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने इसका विरोध करते हुए कहा कि वह बीजेपी नेतृत्व वाली एनडीए सरकार द्वारा पूर्ण बजट पेश करने का संसद के अंदर और बाहर दोनों स्तर पर विरोध करेगी क्योंकि यह कदम संसदीय परंपरा के खिलाफ होगा.

बजट सत्र 31 जनवरी से शुरू होकर 13 फरवरी तक चलने की उम्मीद है. अप्रैल, मई में आम चुनाव होने हैं. मई अंत तक नई सरकार का गठन हो सकता है. सरकार ने चालू वित्त वर्ष के लिए राजकोषीय घाटे का बजट अनुमान जीडीपी का 3.3 प्रतिशत रखा है. माना जा रहा है कि अप्रत्यक्ष कर वसूली उम्मीद के अनुरूप नहीं होने और विनिवेश लक्ष्य पूरा नहीं होने के चलते घाटा लक्ष्य से ज्यादा रह सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi