S M L

मैगी के 10 खाली पैकेट के बदले अब मिलेगा एक पैकेट मुफ्त, नेस्ले ने निकाली नई स्कीम

देश की सबसे बड़ी फूड कंपनी नेस्ले इंडिया ने अपने फ्लैगशिप ब्रांड्स मैगी नूडल्स के लिए ‘रिटर्न स्कीम’ शुरू की है, यह स्कीम फिलहाल देहरादून और मसूरी में शुरू हुई है

Updated On: Nov 15, 2018 04:42 PM IST

FP Staff

0
मैगी के 10 खाली पैकेट के बदले अब मिलेगा एक पैकेट मुफ्त, नेस्ले ने निकाली नई स्कीम

पूरी दुनिया में इस समय पॉल्यूशन का कहर बरपा हुआ है. प्लास्टिक और इससे पर्यावरण पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव को लेकर भी लोग चिंतित नजर आ रहे हैं. इकोनॉमिक टाइम्स के मुताबिक देश की सबसे बड़ी फूड कंपनी नेस्ले इंडिया ने अपने फ्लैगशिप ब्रांड्स मैगी नूडल्स के लिए ‘रिटर्न स्कीम’ शुरू की है. इस स्कीम के तहत उपभोक्ता मैगी नूडल्स के 10 खाली पैकेट ले जाकर दुकान पर एक पैकेट मैगी मुफ्त में पा सकते हैं. यह स्कीम फिलहाल देहरादून और मसूरी में शुरू हुई है. जल्द ही इसके दूसरे राज्यों में शुरू होने की उम्मीद है.

पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर देहरादून और मसूरी में शुरू किया गया है

नेस्ले इंडिया की तरफ से एक प्रवक्ता ने बताया कि इसे पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर देहरादून और मसूरी में सबसे पहले शुरू किया गया है. इस क्षेत्र के करीब 250 रिटेलर्स इसका फायदा दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि इसके जरिए कंपनी का मकसद प्लास्टिक कचरे में कमी लाना है. गति फाउंडेशन और उत्तराखंड एनवायरमेंट प्रोटेक्शन एंड पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड की ज्वाइंट स्टडी के मुताबिक, पिछले साल उत्तराखंड में सबसे ज्यादा प्लास्टिक कचरा फैलाने वालों में मैगी के साथ पेप्सिको, लेज चिप्स और पारले की फ्रूटी जैसे प्रमुख ब्रांड्स का नाम शामिल था.

इस नई स्कीम से उपभोक्ताओं का व्यवहार बदलेगा

उपभोक्ता इनके खाली पैकेट को डस्टबिन में डालने के बजाय इधर उधर फेंक रहे थे. नेस्ले के प्रवक्ता ने बताया, हमें पूरा भरोसा है कि इस नई स्कीम से उपभोक्ताओं का व्यवहार बदलेगा और उन्हें कचरे को डस्टबिन में डालने की जिम्मेदारी का भी एहसास होगा. नेस्ले इंडिया की स्कीम के खाली पैकेट को समेटने और ठिकाने लगाने की जिम्मेदारी इंडियन पॉल्यूशन कंट्रोल एसोसिएशन की होगी. महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तराखंड और तमिलनाडु पहले ही प्लास्टिक के इस्तेमाल पर चुनिंदा प्रतिबंध लगा चुके हैं. इससे कंपनियों ने प्लास्टिक का इस्तेमाल कम करना शुरू कर दिया है. कोका कोला, पेप्सिको और बिसलेरी ने जुलाई में महाराष्ट्र में बेची जाने वाले बॉटल्स पर बायबैक वैल्यू छापना शुरू किया था.

कंपनी ने अपनी मार्केटिंग एक्टिविटीज बढ़ा दी है

बता दें कि सितंबर 2018 में खत्म तिमाही में नेस्ले की घरेलू बिक्री 17.5 फीसदी बढ़कर 2749.5 करोड़ रुपए रही. कंपनी ने अपनी मार्केटिंग एक्टिविटीज बढ़ा दी है. एनालिस्टों का कहना है कि खाली पैकेट के बदले जो फ्री पैकेट दिया जाएगा, उसे कंपनी के प्रमोशनल एक्सपेंडिचर में जोड़ा जाएगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi