S M L

टाटा संस, रतन टाटा के खिलाफ मिस्त्री के आरोपों में कोई ‘दम’ नहीं: NCLT

एनसीएलटी ने अपने आदेश में कहा है कि टाटा संस के चेयरमैन और बोर्ड निदेशक रहते हुए मिस्त्री ने ‘समूह पर नियंत्रण’ करने का प्रयास किया

Bhasha Updated On: Jul 13, 2018 05:06 PM IST

0
टाटा संस, रतन टाटा के खिलाफ मिस्त्री के आरोपों में कोई ‘दम’ नहीं: NCLT

राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) ने कहा है कि टाटा संस के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री की ओर से रतन टाटा और टाटा संस की कंपनियों के खिलाफ लगाए गए आरोपों में कोई ‘दम’ नहीं है.

एनसीएलटी ने इस सप्ताह टाटा संस के खिलाफ मिस्त्री की याचिका को खारिज कर दिया था. न्यायाधिकरण ने अपने आदेश में कहा है कि टाटा संस के चेयरमैन और बोर्ड निदेशक रहते हुए मिस्त्री ने ‘समूह पर नियंत्रण’ करने का प्रयास किया.

न्यायाधिकरण के 368 पन्ने के फैसले को गुरुवार को सार्वजनिक किया गया. न्यायाधिकरण की मुंबई पीठ ने टाटा परिवार और उसके इतिहास का गहराई से अध्ययन किया और टाटा समूह की ओर से दशकों से ‘समाज’ के लिए किए गए कार्यों की काफी तारीफ की.

पीठ ने कहा कि भले ही उसे इस तरह की सूचना ब्रिटानिका या विकिपीडिया से या समूह के स्रोतों से मिली लेकिन टाटा समूह के इस इतिहास और वरीयताओं को ध्यान में रखते हुए ऐसी कोई संभावना नजर नहीं आती कि समूह केवल व्यक्तिगत लाभ के लिए कारोबारी फैसले करेगा.

इसके साथ ही न्यायाधिकरण ने रतन टाटा और न्यासी निदेशक एन सूनावाला के खिलाफ आरोप लगाने के लिए मिस्त्री की आलोचना की.

न्यायाधिकरण ने हाल ही में अपने फैसले में टाटा संस के चेयरमैन पद से हटाए जाने के खिलाफ मिस्त्री की याचिका को खारिज कर दिया. न्यायाधिकरण ने कहा कि 100 अरब डॉलर के समूह का निदेशक कंपनी के कार्यकारी चेयरमैन को हटाने में ‘सक्षम’ है. एनसीएलटी ने मिस्त्री की ओर से रतन टाटा और कंपनी के निदेशक मंडल के स्तर पर गड़बड़ी होने के आरोपों को भी खारिज कर दिया.

मिस्त्री को अक्टूबर 2016 में टाटा संस के चेयरमैन पद से हटा दिया गया था. मिस्त्री ने टाटा संस बोर्ड के इस कदम के खिलाफ एनसीएलटी में मामला दायर किया था. मिस्त्री ने कंपनी के साथ साथ रतन टाटा पर भी कई आरोप लगाए थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi