S M L

अगले वित्त वर्ष में 7.5 प्रतिशत रहेगी आर्थिक वृद्धि दर: एनसीएईआर

एनसीएईआर ने कहा कि चालू खाते का घाटा और राजकोषीय घाटा 2017-18 में क्रमश: शून्य से दो प्रतिशत नीचे और 3.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है

Updated On: Feb 26, 2018 09:46 PM IST

Bhasha

0
अगले वित्त वर्ष में 7.5 प्रतिशत रहेगी आर्थिक वृद्धि दर: एनसीएईआर

आर्थिक शोध संस्थान नेशनल काउंसिल आफ एप्लाइड इकनॉमिक रिसर्च (एनसीएईआर) का अनुमान है कि चालू वित्त वर्ष 2017-18 में भारतीय अर्थव्यवस्था की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर 6.7 प्रतिशत रहेगी, जबकि 2018-19 में यह 7.5 प्रतिशत पर पहुंच जाएगी.

एनसीएईआर का अनुमान इस साल की आर्थिक समीक्षा से मिलता जुलता है. आर्थिक समीक्षा में 2018-19 में आर्थिक वृद्धि दर 7 से 7.5 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया है. चालू वित्त वर्ष में वृद्धि दर 6.75 प्रतिशत रहने का अनुमान आर्थिक समीक्षा में लगाया गया है.

एक बयान में एनसीएईआर ने कहा कि 2017-18 में वास्तविक कृषि सकल मूल्यवर्धन (जीवीए) की वृद्धि दर एक प्रतिशत रहेगी. उद्योग का जीवीए 5.2 प्रतिशत और सेवाओं का आठ प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया है.

बयान में कहा गया है कि 2017-18 में थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति 6.4 प्रतिशत रहने का अनुमान है. डॉलर मूल्य में निर्यात और आयात वृद्धि क्रमश: 12.8 प्रतिशत तथा 24.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है.

एनसीएईआर ने कहा कि चालू खाते का घाटा और राजकोषीय घाटा 2017-18 में क्रमश: शून्य से दो प्रतिशत नीचे और 3.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है. शोध संस्थान ने कहा कि खरीफ खाद्यान्न का उत्पादन 13.98 करोड़ टन से 14.12 करोड़ टन रहने का अनुमान है. रबी खाद्यान्न का उत्पादन पिछले साल के उत्पादन के आसपास 13.7 करोड़ टन रहने का अनुमान है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi