S M L

नोटबंदी के 2 साल: अच्छे दिन का वादा पूरा नहीं हुआ

Updated On: Nov 08, 2018 03:01 PM IST

FP Staff

0
नोटबंदी के 2 साल: अच्छे दिन का वादा पूरा नहीं हुआ

नोटबंदी के दो साल बाद भी यह बहस जारी है कि इससे फायदा हुआ है या नुकसान. आज पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इसके फायदे गिनाए. फिर पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि नोटबंदी दो साल पहले हुआ था लेकिन इसके बुरे असर आज भी नजर आ रहे हैं. उन्होंने कहा कि नोटबंदी की वजह से देश की जीडीपी में 2 फीसदी की गिरावट हुई है.

चिदंबरम ने नोटबंदी को मनी लॉन्डरिंग स्कीम करार दिया है. उन्होंने कहा, पीएम नरेंद्र मोदी का अच्छे दिन का वादा पूरा नहीं हो पाया क्योंकि नोटबंदी का कोई भी मकसद पूरा नहीं हो पाया है. चिदंबरम ने कहा कि नोटबंदी के बाद जीएसटी और डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन अपने अनुमान से कम रहा है. उन्होंने यह भी कहा कि सरकार 2019 में 3.3 फीसदी का डेफिसिट टारगेट भी हासिल नहीं कर पाएगी.

आरबीआई की स्वायत्ता पर क्या बोला?

यूपीए सरकार में वित्त मंत्री का कार्यभार संभालने वाले चिदंबरम ने कहा कि आरबीआई सरकार नहीं है. ना ही वह किसी कंपनी की बोर्ड है. लिहाजा आरबीआई के काम में दखल देने के कई दुष्परिणाम हो सकते हैं. चिदंबरम ने कहा कि वे उन दुष्परिणामों पर फिलहाल खुलकर कुछ नहीं कहेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi