S M L

झारखंडः एस्सार को आवंटित कोयला ब्लॉक रद्द कर सकती है सरकार

झारखंड सरकार एस्सार पावर को आवंटित कोल ब्लॉक वापस ले सकती है क्योंकि कंपनी ने अभी कोल ब्लॉक में कोई कामकाज शुरू नहीं किया है

Bhasha Updated On: Mar 04, 2018 03:02 PM IST

0
झारखंडः एस्सार को आवंटित कोयला ब्लॉक रद्द कर सकती है सरकार

कोयला सचिव सुशील कुमार ने कहा है कि झारखंड में कोयला खदान का कामकाज के मामले में एस्सार पावर का प्रदर्शन उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा है. कुमार का कहना है कि कोयला खदान पर अदालत की रोक हटने के बाद सरकार कोल ब्लॉक का आवंटन रद्द कर सकती है.

कुमार ने कहा, ‘एस्सार के मामले में अदालत ने रोक लगाई हुई है. इसके तहत सरकार पर उसके खिलाफ किसी भी कार्रवाई पर भी रोक है. जब यह रोक हटाई जाती है, हम उनके खिलाफ समझौते के तहत उपयुक्त कार्रवाई करेंगे. इसमें कोयला ब्लॉक (तोकिसूद नॉर्थ कोयला ब्लॉक) का आवंटन भी रद्द करना शामिल है.’

तोकिसूद उत्तरी खदान में भंडार 10.32 करोड़ टन अनुमानित है. इसमें 5.19 करोड़ टन कोयला निकाला जा सकता है. यह कोयला ब्लॉक पूर्व में हुई नीलामी में एस्सार पावर एमपी लिमिटेड को मिला था.

कंपनियों को करना होगा बेहतर प्रदर्शन, वरना गंवाना पड़ सकता है खान 

उन्होंने कहा, ‘अदालत ने रोक लगाई हुई है. जब रोक हटाई जाती है हम कोयला ब्लॉक का आवंटन रद्द करेंगे क्योंकि उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं है.’ कोयला मंत्रालय के अधिकारी के अनुसार इस खान के वित्त वर्ष 2015-16 में परिचालन में आना था.

कुमार ने आगाह करते हुए कहा कि जिन कंपनियों को नीलामी में कोयला ब्लाक आवंटित किए गए हैं, उन्हें बेहतर प्रदर्शन करना होगा, अन्यथा उन्हें खानों को गंवाना पड़ेगा.

विभिन्न जरूरी मंजूरी मिलने में देरी तथा शुल्क शर्तों में अचानक बदलाव को देखते हुए एस्सार पावर ने पूर्व में कहा था कि उसने झारखंड में तोकिसूद नॉर्थ कोयला ब्लॉक वापस लौटाने का फैसला किया. इसमें वह पहले ही 490 करोड़ रुपए निवेश कर चुकी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi