S M L

Jet Airways Crisis: कर्ज समाधान योजना को मंजूरी, कर्जदाता होंगे सबसे बड़े शेयरधारक

समाधान योजना में 8,500 करोड़ रुपए के वित्त की कमी का अनुमान लगाया है. इसमें विमान कर्ज के एवज में 1700 करोड़ रुपए के भुगतान का प्रस्ताव शामिल है.

Updated On: Feb 14, 2019 10:46 PM IST

Bhasha

0
Jet Airways Crisis: कर्ज समाधान योजना को मंजूरी, कर्जदाता होंगे सबसे बड़े शेयरधारक

कर्ज में फंसी निजी क्षेत्र की एयरलाइन जेट एयरवेज के निदेशक मंडल ने बैंक की अगुवाई वाली कर्ज समाधान योजना (बीएलआरपी) को मंजूरी दे दी. इसके तहत कर्जदाताओं के कर्ज को इक्विटी शेयर में बदला जाएगा. इससे वे एयरलाइन के सबसे बड़े शेयरधारक बन जाएंगे.

रिजर्व बैंक के 12 फरवरी 2018 के सर्कुलर में करीब 8,500 करोड़ रुपए के वित्त की कमी को पूरा करने के तहत कर्ज पुनर्गठन का प्रस्ताव किया गया है. एयरलाइन ने शेयर बाजारों को दी सूचना में कहा कि समाधान योजना में कर्जदाताओं को इक्विटी शेयर आवंटित करने का विचार है. इसके तहत कर्जदाताओं के कर्ज को 10-10 रुपए के 11.40 करोड़ शेयरों में तब्दील करने का प्रस्ताव है. इससे एयरलाइन को कर्ज दे रखे कर्जदाता कंपनी में सबसे बड़े शेयरधारक बन जाएंगे.

योजना के तहत कर्जदाताओं के प्रतिनिधि एयरलाइन के निदेशक मंडल में नियुक्त किए जाएंगे. बीएलपीआरपी में इस बात पर जोर दिया गया है कि कंपनी 21 फरवरी को होने वाली शेयरधारकों की बैठक में जरूरी मंजूरी प्राप्त करेगी. दिसंबर 2018 की स्थिति के मुताबिक एयरलाइन के प्रवर्तक नरेश गोयल की कंपनी में 51 फीसदी जबकि एतिहाद एयरवेज की 24 प्रतिशत हिस्सेदारी है. एयरलाइन के ऊपर 30 सितंबर 2018 तक कुल 8,052 करोड़ रुपए का कर्ज था.

समाधान योजना में 8,500 करोड़ रुपए के वित्त की कमी का अनुमान लगाया है. इसमें विमान कर्ज के एवज में 1700 करोड़ रुपए के भुगतान का प्रस्ताव शामिल है. इस कमी को शेयर पूंजी डालने, कर्ज पुनर्गठन, बिक्री/पट्टा वापसी/विमान का रिफाइनेंस समेत अन्य माध्यमों से पूरा करने की बात कही गई है.

प्रस्तावित समाधान योजना को विचार के लिए बैंकों के समूह, भारतीय बैंक संघ की निगरानी समिति, एतिहाद एयरवेज और प्रवर्तकों के सामने रखा जाएगा. बीएलपीआरपी में घरेलू कर्जदाताओं के जरिए उपयुक्त अंतरिम कर्ज सुविधा की मंजूरी की भी बात कही गई है. इस योजना को लागू करने से पहले सेबी, नागर विमानन मंत्रालय और भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग से मंजूरी ली जाएगी.

साथ ही दिसंबर 2018 को समाप्त तिमाही में एयरलाइन को एकल आधार पर 587.77 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा हुआ है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi