S M L

जेपी ने नहीं चुकाया 108 करोड़ का बकाया, तो जा सकती है फॉर्मूला वन की जमीन

जेपी पर Yamuna Expressway Industrial Development Authority का 108 करोड़ रुपए का बकाया है. इस साल के अंत तक बकाया नहीं चुकाने पर फॉर्मूला वन बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट और जेपी स्पोर्ट्स सिटी के लिए आवंटित भूमि वापस ली जा सकती है

Updated On: Nov 28, 2018 05:21 PM IST

Bhasha

0
जेपी ने नहीं चुकाया 108 करोड़ का बकाया, तो जा सकती है फॉर्मूला वन की जमीन

संकट से जूझ रहे जेपी समूह की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं. कंपनी पर यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (Yamuna Expressway Industrial Development Authority) का 108 करोड़ रुपए का बकाया है. अथॉरिटी ने कहा है कि इस साल के अंत तक बकाया नहीं चुकाया गया तो कंपनी को फॉर्मूला वन बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट और जेपी स्पोर्ट्स सिटी के लिए आवंटित 1,000 एकड़ भूमि वापस ली जा सकती है.

अथॉरिटी के चेयरमैन प्रभात कुमार ने कहा कि अथॉरिटी के निदेशक मंडल ने जेपी समूह को थोड़ी राहत देने का निर्णय किया है. कंपनी को यह राशि सितंबर तक चुकानी थी. अब उसे एक माह का और समय दिया गया है ताकि वह अपना सारा कर्ज निपटा सके. अन्यथा उसके खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है जिसमें भूमि का आवंटन निरस्त किया जा सकता है.

कई बार मिला मौका लेकिन कंपनी नहीं कर पाई भुगतान

कुमार ने कहा कि 1,000 एकड़ भूमि आवंटन के बदले जेपी समूह पर अथॉरिटी का 108 करोड़ रुपए बकाया है. यह भूमि फॉर्मूला वन बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट और जेपी स्पोर्ट्स सिटी के निर्माण के लिए दी गई थी. अथॉरिटी ने इस भुगतान के लिए कंपनी को बहुत बार समय दिया लेकिन वह इसकी किस्तों का भुगतान करने में असफल रही. अब हमने उसे यह अंतिम समय दिया है कि वह अपने सारे बकाया का निपटान करे अन्यथा कार्रवाई के लिए तैयार रहे.

जेपी समूह की दो कंपनियां जयप्रकाश एसोसिएट्स लिमिटेड और जेपी इंफ्राटेक लिमिटेड दिवाला एवं शोधन अक्षमता प्रक्रिया (Insolvency And Bankruptcy Code- IBC) का सामना कर रही हैं.

अथॉरिटी की 64वीं निदेशक मंडल की बैठक में यमुना एक्सप्रेसवे पर चुंगी नहीं बढ़ाने का भी निर्णय किया गया. साथ ही एक्सप्रेसवे से लगे सेक्टर 18, 20 और 29 में 12 होटल और सात पेट्रोल पंप खोलने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी गई.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi