S M L

नौकरीपेशा लोगों ने गलत IT रिटर्न भरा तो होगी कार्रवाई

इनकम टैक्स विभाग के अनुसार रिटर्न में आय कम दिखाना या कटौती बढ़ाचढ़ाकर दिखाना विभिन्न धाराओं के तहत दंडनीय है

Updated On: Apr 18, 2018 10:44 PM IST

Bhasha

0
नौकरीपेशा लोगों ने गलत IT रिटर्न भरा तो होगी कार्रवाई

इनकम टैक्स विभाग ने वेतनभोगी कर्मचारियों को गलत आयकर रिटर्न (आईटीआर) दाखिल करने के प्रति आगाह किया है. विभाग ने कहा है कि ऐसे करदाताओं के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और उनके नियोक्ताओं को भी इस संबंध में सूचित किया जाएगा.

विभाग ने ऐसे करदाताओं को अपनी रिटर्न में आय कम बताने या कटौती को बढ़ा चढ़ाकर दिखाने जैसे हथकंडे अपनाने के प्रति आगाह किया है.

विभाग के बेंगलुरु स्थित केंद्रीय प्रसंस्करण केंद्र सीपीसी ने इस बारे में करदाताओं को परामर्श भी जारी किया है. इस श्रेणी के करदाताओं से कहा गया है कि गलत लाभ के लिए गलत कर सलाहकारों के चक्कर में नहीं पड़ें.

इनकम टैक्स विभाग के अनुसार रिटर्न में आय कम दिखाना या कटौती बढ़ाचढ़ाकर दिखाना विभिन्न धाराओं के तहत दंडनीय है और आयकर कानून की धाराओं के तहत अभियोजन किया जा सकता है.

उल्लेखनीय है कि विभाग की जांच शाखा ने जनवरी में एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया था जो कर्मचारियों को फर्जी तरीके से कर रिफंड हासिल करने में मदद करता है. सीबीआई ने हाल ही में इस मामले में आपराधिक मामला दर्ज किया है.

वेतनभोगी करदाताओं के लिए कर दाखिल करने (आईटीआर) का सेशन हाल ही में शुरू हुआ है. केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने वेतनभोगी करदाताओं के लिए नए आईटीआर फार्म को हाल ही में निकाला है.

इनकम टैक्स अफसर भी करदाताओं से विनम्रता से पेश आएं

दूसरी ओर इनकम टैक्स अफसरों के मनमानी करने की शिकायतें बढ़ने से चिंतित इनकम टैक्स विभाग ने उनके लिए नए दिशानिर्देश जारी कर उनसे करदाताओं के साथ विनम्रता से पेश आने के लिए कहा है.

करदाता सेवा निदेशालय (टीपीएस) ने 16 अप्रैल को यह दिशानिर्देश जारी किए. टीपीएस निदेशालय को कुछ साल पहले करदाता और कर अधिकारियों के बीच बातचीत को आसान बनाने के साथ करदाताओं की शिकायतों के निवारण के लिए बनाया गया था.

जारी दिशानिर्देशों के अनुसार केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ( सीबीडीटी ) करदाताओं या उनके प्रतिनिधियों के साथ बातचीत के दौरान अनिवार्य नरम रुख अपनाने वाले क्षेत्र में काम करने वाले अधिकारियों से लगातार प्रभावित होता है. सबसे महत्वपूर्ण है कि कर अधिकारी और अन्य कर्मियों का व्यवहार विनम्र और तिरस्कार से बचने वाला होना चाहिए.

इस संबंध में टीपीएस निदेशालय की प्रधान महानिदेशक नीना कुमार ने देशभर में विभाग के सभी प्रमुखों को पत्र लिखा है. पत्र में कहा गया है कि टीपीएस और सीबीडीटी को अधिकारियों और कर्मियों के खिलाफ उत्पीड़न, बदसलूकी और मनमानी करने की कई शिकायतें मिली हैं. ऐसी घटनाएं पूरी आयकर विभाग की छवि को नुकसान पहुंचाती हैं. साथ ही उसके एक सेवा उन्मुखी संगठन होने के प्रयासों को भी प्रभावित करती हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi