S M L

ग्राहकों में बेचैनी न हो इसलिए थमे हुए हैं पेट्रोल-डीजल के दाम: IOC

सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियां 24 अप्रैल से पेट्रोल और डीजल के दाम में बदलाव नहीं कर रही हैं जबकि इस दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में मानक मूल्यों में करीब तीन डालर प्रति बैरल की तेजी आई है

Updated On: May 08, 2018 09:20 PM IST

Bhasha

0
ग्राहकों में बेचैनी न हो इसलिए थमे हुए हैं पेट्रोल-डीजल के दाम: IOC

सार्वजनिक क्षेत्र की इंडियन आयल कारपोरेशन (आईओसी) के चेयरमैन संजीव सिंह ने मंगलवार को कहा कि कंपनी ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों को अस्थायी तौर पर स्थिर रखने का फैसला किया है ताकि ईंधन के मूल्य में तीव्र वृद्धि नहीं हो और ग्राहकों में घबराहट न फैले.

सरकारी तेल कंपनियों ने कर्नाटक चुनाव से पहले पेट्रोल और डीजल के दामों की दैनिक समीक्षा का फैसला रोके जाने के बीच आईओसी ने यह बात कही है.

सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियां 24 अप्रैल से पेट्रोल और डीजल के दाम में बदलाव नहीं कर रही हैं जबकि इस दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में मानक मूल्यों में करीब तीन डालर प्रति बैरल की तेजी आई है.

सिंह ने हालांकि संकेत दिया कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल कीमतों में वृद्धि जारी रहती है तो कीमत बढ़ेगी. कर्नाटक में 12 मई को चुनाव है.

यहां एक कार्यक्रम में सिंह ने संवाददाताओं से कहा, ‘हमने जरूरी वृद्धि का बोझ ग्राहकों पर नहीं डालकर अस्थायी रूप से ईंधन की कीमतों को स्थिर रखने का फैसला किया है क्योंकि हमें भरोसा है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में मौजूदा तेल उत्पादों की कीमतें का कोई आधार नहीं है. इसीलिए हमने कुछ समय के लिये इंतजार करने का फैसला किया है.’

क्या है पेट्रोल-डीजल के दाम न बढ़ने की असली वजह?

इससे पहले, पेट्रोल के 55 महीने के उच्च स्तर 74.63 रुपए प्रति लीटर पर पहुंचने तथा डीजल के रिकार्ड 65.93 रुपए लीटर पर आने के साथ वित्त मंत्रालय ने आम लोगों को राहत देने के लिए उत्पाद शुल्क में कटौती से इनकार किया था. उसके बाद पेट्रोलियम कंपनियों ने ईंधन की कीमतें नहीं बढ़ाई हैं.

सिंह ने कहा, ‘हमें जो आजादी मिली है, उसके तहत हम दैनिक आधार पर वृद्धि का बोझ ग्राहकों पर डाल सकते हैं. लेकिन हमारा मानना है कि अंतरराष्ट्रीय तेल उत्पादों के दाम में वृद्धि का कोई उपयुक्त आधार नहीं है और उसका बोझ ग्राहकों पर डालने से अनवाश्यक रूप से ग्राहकों में घबराहट पैदा होगी.’

उन्होंने कहा, ‘इसीलिए हमने कुछ हद तक कीमत को स्थिर रखने का प्रयास किया है... . ’

यह पूछे जाने पर क्या तीनों सरकारी तेल कंपनियों ने एक साथ खुदरा कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार के मुताबिक नहीं बढ़ाने का फैसला किया, सिंह ने कहा कि यह संभव है. उन्हें भी यही लगा हो कि कीमत वृद्धि का कोई आधार नहीं है और इसे नियंत्रित करने की जरूरत है.

डीजल की अंतरराष्ट्रीय मानक दर इस दौरान 84.68 डालर प्रति बैरल से बढ़कर 87.14 डालर पहुंच गई. साथ ही रुपया भी डालर के मुकाबले कमजोर होकर 65.41 से बढ़कर 66.62 पर पहुंच गया. इससे आयात महंगा हुआ है.

पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने पिछले महीने उन रिपोर्ट को खारिज किया जिसमें सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों को लागत के मुताबिक ईंधन के दाम नहीं बढ़ाने और कम-से-कम एक रुपए प्रति लीटर का बोझ उठाने की बात कही गई थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता
Firstpost Hindi