S M L

डॉलर के मुकाबले रुपया 70.32 के रिकॉर्ड निचले स्तर पर, जानें क्या होगा असर

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अमेरिका और चीन में ट्रेड वार बढ़ने के बीच ऑयल इम्पोर्टर्स द्वारा डॉलर की डिमांड बढ़ी, जिससे रुपए पर दबाव बना

Updated On: Aug 16, 2018 12:09 PM IST

Bhasha

0
डॉलर के मुकाबले रुपया 70.32 के रिकॉर्ड निचले स्तर पर, जानें क्या होगा असर

शुरुआती कारोबार में डॉलर के मुकाबले रुपया गुरुवार को 43 पैसे गिरकर 70.32 पर पहुंच गया जो इसका सबसे निचला स्तर है.

मु्द्रा बाजार में रुपया डॉलर के मुकाबले रिकॉर्ड निचले स्तर 70.25 पर खुला और जल्द ही कुल 43 पैसे टूटकर 70.32 पर पहुंच गया. पिछले सत्र के कारोबार में डॉलर के मुकाबले रुपया 69.89 के स्तर पर बंद हुआ था.

क्या है वजह?

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अमेरिका और चीन में ट्रेड वार बढ़ने के बीच ऑयल इम्पोर्टर्स द्वारा डॉलर की डिमांड बढ़ी, जिससे रुपए पर दबाव बना. वहीं अगले महीने अमेरिका में ब्याज दरें बढ़ने की उम्मीद है. ऐसे में डॉलर लगातार मजबूत हो रहा है. इसके अलावा तुर्की में आर्थिक संकट से भी दुनियाभर की करेंसी पर निगेटिव असर है.यूरोपीय करंसी में भी स्लोडाउन आने से अन्य करंसी के मुकाबले डॉलर में मजबूती आ रही है. डॉलर इंडेक्स 13 महीने की ऊंचाई पर पहुंच गया है.

इससे पहले मंगलवार को भी भारतीय रुपए में बड़ी गिरावट दर्ज की गई थी. एक डॉलर की कीमत 70 रुपए से ज्यादा हो गई थी. भारी गिरावट के बाद एक अमेरिकी डॉलर की तुलना में रुपए की कीमत 70.07 हो गई.

रुपए के कमजोर होने से इन चीजों पर पड़ेगा असर

जब रुपया गिरेगा और पेट्रोल, डीज़ल के दाम बढ़ेंगे तो इनका असर अन्य चीज़ों पर भी होगा. मतलब दूसरी ज़रूरी चीज़ों के दाम में इजाफा होगा.

अगर रुपया डॉलर के मुकाबले ज्यादा गिरेगा तो आरबीआई ब्याज की दरों में इजाफा कर सकती है. इसका सीधा असर लोगों को लोन और होम लोन पर पढ़ेगा. उनकी ईएमआई बढ़ेगी.

रुपए गिरने का सबसे ज्यादा नुकसान विदेश में पढ़ने वाले छात्रों को भी होगा. क्योंकि उन्हें डॉलर्स में फीस देनी होगी और उसे चुकाने के लिए ज्यादा रुपए खर्च करने होंगे.

विदेश यात्रा करने वाले लोगों को पहले से ज्यादा दाम चुकाने होंगे. क्योंकि विदेश में रुकने के लिए होटल, खाने के लिए भोजन और दूसरी चीज़ों के लिए ज्यादा दाम देने होंगे. विदेश यात्रा करने वाले लोगों को पहले से ज्यादा दाम चुकाने होंगे. क्योंकि विदेश में रुकने के लिए होटल, खाने के लिए भोजन और दूसरी चीज़ों के लिए ज्यादा दाम देने होंगे.

रुपए गिरने के बाद जो सबसे ज्यादा फायदे में होंगे वो हैं देश के निर्यातक. उन्हें अपना सामान बेचने में पहले से ज्यादा फायदा होगा मतलब उनकी कमाई बढ़ेगी.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi