S M L

स्विस बैंक में भारतीयों का धन 50% बढ़ा, आंकड़ा 7000 करोड़ के पार

स्विस बैंक खातों में रखे भारतीयों के धन में 2011 में इसमें 12%, 2013 में 43%, 2017 में इसमें 50.2% की वृद्धि हुई. इससे पहले 2004 में यह धन 56% बढ़ा था

FP Staff Updated On: Jun 28, 2018 10:13 PM IST

0
स्विस बैंक में भारतीयों का धन 50% बढ़ा, आंकड़ा 7000 करोड़ के पार

भारतीयों का स्विस बैंकों में जमा धन चार साल में पहली बार बढ़ कर पिछले साल एक अरब स्विस फ्रैंक (7,000 करोड़ रुपए ) के दायरे में पहुंच गया जो एक साल पहले की तुलना में 50 प्रतितशत की वृद्धि दर्शाता है.

स्विट्जरलैंड के केंद्रीय बैंक के ताजा आंकड़ों में यह बात सामने आयी है. इसके अनुसार भारतीयों द्वारा स्विस बैंक खातों में रखा गया धन 2017 में 50% से अधिक बढ़कर 7000 करोड़ रुपए (1.01 अरब फ्रैंक) हो गया.

इससे पहले तीन साल यहां के बैंकों में भारतीयों के जमा धन में लगातार गिरावट आई थी। अपनी बैंकिंग गोपनीयता के लिए पहचान बनाने वाले इस देश में भारतीयों के जमाधन में ऐसे समय दिखी बढ़ोतरी हैरान करने वाली है जबकि भारत सरकार विदेशों में कालाधन रखने वालों के खिलाफ अभियान चलाए हुए है.

स्विस नेशनल बैंक (एसएनबी) के सालाना आंकड़ों के अनुसार स्विस बैंक खातों में जमा भारतीय धन 2016 में 45 प्रतिशत घटकर 67.6 करोड़ फ्रैंक ( लगभग 4500 करोड़ रुपए) रह गया. यह राशि 1987 से इस आंकड़े के प्रकाशन की शुरुआत के बाद से सबसे कम थी.

एसएनबी के आंकड़ों के अनुसार भारतीयों द्वारा स्विस बैंक खातों में सीधे तौर पर रखा गया धन 2017 में लगभग 6891 करोड़ रुपए ( 99.9 करोड़ फ्रैंक) हो गया. वहीं प्रतिनिधियों या धन प्रबंधकों के जरिए रखा गया धन इस दौरान 112 करोड़ रुपए (1.62 करोड़ फ्रैंक) रहा.

ताजा आंकड़ों के अनुसार स्विस बैंक खातों में जमा भारतीयों के धन में ग्राहक जमाओं के रूप में 3200 करोड़ रुपए, अन्य बैंको के जरिए 1050 करोड़ रुपए शामिल है. इन सभी मदों में भारतीयों के धन में 2017 में साल में बढ़ोतरी हुई.

स्विस बैंक खातों में रखे भारतीयों के धन में 2011 में इसमें 12%, 2013 में 43%, 2017 में इसमें 50.2% की वृद्धि हुई. इससे पहले 2004 में यह धन 56% बढ़ा था.

सएनबी के ये आंकड़े ऐसे समय में जारी किए गए हैं जबकि कुछ महीने पहले ही भारत व स्विट्जरलैंड के बीच सूचनाओं के स्वत: आदान प्रदान की एक नई व्यवस्था लागू की गई है. इस व्यवस्था का उद्देश्य काले धन की समस्या से निजात पाना है.

इस बीच स्विट्जरलैंड के बैंकों का मुनाफा 2017 में 25% बढ़कर 9.8 अरब फ्रैंक हो गया. हालांकि इस दौरान इन बैंकों के विदेशी ग्राहकों की जमाओं में गिरावट आई. इससे पहले 2016 में यह मुनाफा घटकर लगभग आधा 7.9 अरब फ्रैंक रह गया था.

देश के पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने स्विस बैंक में भारतीयों की राशि 50 प्रतिशत बढ़ने के मामले मोदी सरकार पर तंज कसा है. सिन्हा ने कहा कि मैं नोटबंदी की आलोचना करके गलत साबित हुआ. नोटबंदी ने कश्मीर में पत्थरबाजी को पूरी तरह से समाप्त कर दिया है और इससे काला धन भी भारत और स्विट्जरलैंड में खत्म हो चुका है.

पिछले काफी समय से यशवंत सिन्हा मोदी सरकार की नीतियों की आलोचना करते रहे हैं. हाल ही उन्होंने बीजेपी से नाता भी तोड़ लिया था.

भारत 2007 तक स्विस बैंकों में जमा पूंजी के लिहाज से शीर्ष 50 देशों में शामिल था. भारत ब्रिक्स देशों में भी न्यूनतम पायदान पर पहुंच गया है. रूस 17.6 अरब सीएचएफ के साथ 17वें स्थान पर, चीन 7.4 अरब सीएचएफ के साथ 28वें स्थान पर, ब्राजील 4.8 अरब सीएचएफ के साथ 37वें स्थान पर और दक्षिण अफ्रीका 2.2 अरब सीएचएफ के साथ 60वें स्थान पर है.

(इनपुट भाषा से)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi