Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

नोटबंदी के बाद निवेशकों का म्यूचुअल फंड में बढ़ा रूझान

इसके पीछे अहम वजह उद्योग की तरु से चलाया जा रहा बेहतर प्रचार अभियान और नोटबंदी के बाद वित्तीय उत्पादों का लौटना प्रमुख रहा है

Bhasha Updated On: Dec 25, 2017 05:52 PM IST

0
नोटबंदी के बाद निवेशकों का म्यूचुअल फंड में बढ़ा रूझान

वर्ष 2017 म्यूचुअल फंड निवेश के लिहाज से एक बेहतरीन साल रहा. इस दौरान म्यूचुअल फंड के तहत संपत्ति प्रबंधन में छह लाख करोड़ रुपए की वृद्धि हुई. इस साल नवंबर अंत तक ये 23 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच गया. म्यूचुअल फंड की तरफ निवेशकों का रुख नए साल में भी बने रहने की उम्मीद है.

इसके पीछे अहम वजह उद्योग की तरु से चलाया जा रहा बेहतर प्रचार अभियान और नोटबंदी के बाद वित्तीय उत्पादों का फिर से लौटना प्रमुख रहा है.

वर्ष 2017 के अंत तक म्यूचुअल फंड के प्रबंधन अधीन कुल संपत्ति आधार 40% ऊंचा रहने की उम्मीद की जा रही है. नवंबर अंत तक कुल म्यूचुअल फंड आधार 23 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच गया जो कि दिसंबर 2016 में 16.46 लाख करोड़ रुपए पर था.

म्यूचुअल फंड तक बहुत कम लोगों की है पहुंच 

म्यूचुअल फंड कंपनियों को नए साल में भी इस क्षेत्र में ‘व्यापक’ निवेश होने की उम्मीद है क्योंकि अभी देश में म्यूचुअल फंड तक बहुत कम लोगों की पहुंच है. इसके अलावा बाजार नियामक सेबी के सुधारवादी कदम से भी इसमें मदद मिलेगी.

फ्रैंकलिन टेंपलटन इंवेस्टमेंट इंडिया के अध्यक्ष संजय सप्रे ने कहा, ‘भारत में कम लोगों तक म्यूचुअल फंड की पहुंच, वित्तीय साक्षरता में बढ़ोत्तरी और दीर्घकालिक संपत्ति सृजन के अन्य विकल्पों की गैर-मौजूदगी से इस क्षेत्र में वृद्धि की तमाम संभावनाएं हैं.’

उन्होंने कहा कि इसके अलावा जनधन, आधार और मोबाइल बैंकिंग के साथ भुगतान के लिए अपने ग्राहक को जानो (केवाईसी) जैसी तकनीकों को लागू करने से भी इस क्षेत्र में वृद्धि होगी.

लगातार पांचवा साल है जब म्यूचुअल फंड में निवेश बढ़ा है 

इससे देशभर में ना केवल इसका वितरण बेहतर करने में मदद मिलेगी बल्कि निवेश की लागत भी कम होगी.

वर्ष 2017 में कुल सक्रिय 42 म्यूचुअल फंड कंपनियों का संपत्ति आधार 40% बढ़ा है. पिछले पांच साल के दौरान यह औसत 24% रहा.

इस क्षेत्र का संपत्ति आधार पहली बार मई 2014 में 10 लाख करोड़ रुपए के जादुई आंकड़े को पार कर गया था. इस साल नंवबर अंत तक ये दोगुना से ज्यादा होकर कुल 23 लाख करोड़ रुपए हो गया.

ये लगातार पांचवा साल है जब म्यूचुअल फंड में निवेश बढ़ा है. जबकि इससे पहले दो साल में इसमें गिरावट देखी गई थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi