S M L

IMF ने भारत के विकास दर का अनुमान घटाकर 6.7% किया

आईएमएफ ने उम्मीद जताई है कि 2018 में भारत की अर्थव्यवस्था 7.4 फीसदी की दर से सबसे तेजी से विकास करेगी

Updated On: Oct 10, 2017 09:45 PM IST

FP Staff

0
IMF ने भारत के विकास दर का अनुमान घटाकर 6.7% किया

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने भारत की ग्रोथ रेट का अनुमान घटा दिया है. आईएमएफ की राय मे मौजूदा वित्त वर्ष के दौरान ग्रोथ रेट 6.7 फीसदी रह सकती है जबकि पहले 7.2 फीसदी का अनुमान था. हालांकि आईएमएफ यह मानता है कि आने वाले वित्त वर्ष के दौरान विकास में सुधार होगा.

विश्व अर्थव्यवस्था पर अपनी रिपोर्ट में आईएमएफ ने कहा कि भारत में विकास की रफ्तार धीमी हुई है. ये नोटबंदी और वित्त वर्ष के बीच में ऑल इंडिया लेवल पर जीएसटी लागू करने के असर को दर्शाता है.

पिछले साल 8 नवंबर को सरकार के नोटबंदी ऐलान के बाद एक झटके में 84 फीसदी करेंसी अमान्य हो गई थी. दूसरी ओर पहली जुलाई से जीएसटी लागू किया गया जिसके तहत केंद्र और राज्य सरकारों के कुल मिलाकर 17 तरह के टैक्स और 23 तरह के सेस को मिलाकर देश में जीएसटी के लिए एक ही दर रखी गई.

चीन की विकास दर बेहतर

आईएमएफ और वर्ल्ड बैंक की सालाना बैठक के ठीक पहले यह रिपोर्ट आई है. इस रिपोर्ट में चीन की विकास दर भारत से कुछ बेहतर बताई गई है. 2017 में चीन की विकास दर 6.8 फीसदी रहने का अनुमान है. यह पिछले अनुमानों से लगभग 0.1 फीसदी ज्यादा है. इसके बावजूद उम्मीद है कि अगले साल भारत सबसे तेजी से विकास करने वाली अर्थव्यवस्था होगी, क्योंकि 2018 में जहां चीन की विकास दर 6.5 फीसदी रहने का अनुमान है जबकि भारत की विकास दर 7.4 फीसदी.

रिपोर्ट में भारत के सुधार कार्यक्रमों का विशेष तौर पर जिक्र किया गया है. इसके मुताबिक जीएसटी समेत अमल में लाए जा रहे कई मूलभूत सुधारों की वजह से विकास को प्रोत्साहन मिलेगा. इन सब के चलते मध्यावधि में भारत की विकास दर 8 फीसदी के पार जा सकती है.

रिपोर्ट के मुताबिक, श्रम कानूनों के साथ-साथ जमीन अधिग्रहण से जुड़े कानून को सरल और आसान बनाना कारोबारी माहौल को सुधारने के लिए जरूरी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi