S M L

बजट और बॉलीवुड: सरकार से टैक्स कम करने की गुहार लगा रही है फिल्म इंडस्ट्री

फिल्म एंड टेलिविजन प्रड्यूसर्स गिल्ड ने सरकार के सामने बजट से पहले रखी हैं ये मांगें

Updated On: Jan 31, 2018 11:42 AM IST

Hemant R Sharma Hemant R Sharma
कंसल्टेंट एंटरटेनमेंट एडिटर, फ़र्स्टपोस्ट हिंदी

0
बजट और बॉलीवुड: सरकार से टैक्स कम करने की गुहार लगा रही है फिल्म इंडस्ट्री

फिल्म और टीवी प्रड्यूसर्स गिल्ड ने सरकार को एक मेमोरंडम भेजकर अपनी मांगें सरकार के सामने रखी हैं. इसमें पायरेसी से लेकर टैक्स सुधारों की उम्मीद सरकार से की गई है. आइए आपको बताते हैं गिल्ड की सरकार के सामने रखी गई मुख्य मांगे क्या हैं?

पाइरेसी को रोके सरकार

भारत में पाइरेसी कम होने की बजाय तेजी से बढ़ी है, अंडरवर्ल्ड का इसमें हाथ होने की वजह से, फिल्म भारत में रिलीज हो या विदेश में, सिनेमाहॉल से ही इसकी कॉपी बनकर कुछ ही घंटों में टॉरेंट और दूसरी साइट्स पर आ जाती है. जिसके बाद लोग इन फिल्मों को घर पर ही डाउनलोड करके देख लेते हैं.

Bollywood IIFA

सिनेमाहॉल्स में टिकट की कीमतें और दूसरे खर्चें इतने ज्यादा हैं कि लोग अपने परिवारों के साथ फिल्म देखने को महंगा सादा मानते हैं इसलिए पाइरेसी पर आम लोग फायदा होने की वजह से चुप्पी साधे रहते हैं. इससे फिल्ममेकर्स को भारी नुकसान होता है. एक रिपोर्ट के मुताबिक मल्टिप्लेक्सेस की संख्या बढ़ने के बाद भी, भारत में थियेटर्स जाने वाले लोगों की संख्या में बढ़ोतरी नहीं हो रही है. जिससे सिनेमाहॉल मालिक घबराए हुए हैं.

थिएटर्स मालिकों को इनकम टैक्स में छूट की मांग

गिल्ड ने सरकार से मांग की है कि भारत में मल्टिप्लेक्सेस के सेट अप को बढ़ावा देने के लिए सरकार को इनकम टैक्स के अधिनियम 80-IB के तहत छूट की मांग की है. जिन मालिकों ने अपने थिएटर्स 2005 के बाद बनवाए हैं उन्हें टैक्स से काफी नुकसान हो रहा है. ऐसे में अगर उन्हें इनकम टैक्स में छूट मिल जाएगा तो उन्हें काफी राहत मिलेगी और इनकम टैक्स में छूट का फायदा लेने के लिए ज्यादा लोग थिएटर्स में इनवेस्ट करेंगे.

लाइन प्रोडक्शन को 2% टैक्स में लाने की मांग

लाइन प्रोडक्शन के तहत वो काम जो टेक्निकल सर्विस के दायरे में नहीं आते हैं उनके लिए इनकम टैक्स के सेक्शन 194C में 2% टैक्स का प्रावधान है लेकिन टैक्स अधिकारी 10% के हिसाब से टीडीएस काटते हैं जिससे लाइन प्रड्यूसर्स को नुकसान हो रहा है. गिल्ड की सरकार से मांग है कि इस कन्फ्यूजन को दूर करके लाइन प्रोडक्शन के लोगों पर 2% टीडीस लगाने की मांग की है.

CRICKET-T20-IPL-IND-BANGALORE-DELHI

घाटा होने पर कैरी-फॉरवर्ड की व्यवस्था

बॉलीवुड में फिल्में फ्लॉप होने और प्रोडक्शन में घाटा होने की कहानियां आम हैं. ऐसे में मीडिया और एंटरटेनमेंट में काम करने वाली कंपनियों को अपना घाटा कैरी-फॉरवर्ड करने की सुविधा फिलहाल सरकार ने इस सेक्टर को नहीं दी हैं. ऐसे में कंपनियों की मांग है कि उनको अपना घाटा और नुकसान कैरी फॉरवर्ड करने की सुविधा दी जाए ताकि वो अपने नुकसान की भरपाई कर सकें.

प्रड्यूसर्स को फिल्म बेचने में टैक्स पर छूट की मांग

गिल्ड ने सरकार से ये भी मांग की है कि अगर कोई प्रड्यूसर अपनी फिल्म किसी एक्जिबिटर को बेचता है उस फाइनेंशियल ईयर के 90 दिन के अंदर उसे फिल्म प्रोडक्शन पर क्लेम डिडक्शन का अधिकार मिलना चाहिए.

SEZ में मिनिमम ऑल्टरनेट टैक्स हटाया जाए

जो मीडिया कंपनियां स्पेशल इकोनोमिक जोन में हैं उन पर से सरकार को मिनिमम ऑल्टरनेट टैक्स हटाने की गिल्ड ने सरकार से मांग की है. गिल्ड का मानना है कि भारत में ग्लोबल डिजिटल मीडिया हब बनने की पी संभावनाएं हैं अगर सरकार कंपनियों पर से इस तरह के टैक्ट हटा देगी तो कंपनियों को टैक्स के ज्यादा बोझ से छुटकारा मिल सकेगा.

bollywood 2018

इसके अलावा विदेशी आर्टिस्ट्स को दिए जाने वाले पैसे में टैक्स सर्टिफिटेक के इश्यू को भी सरकार से सरल बनाने की मांग की है जिससे विदेशी आर्टिस्टों के साथ काम करना देश में आसान हो सकेगा.

अब देखना ये है कि सरकार इनमें से कितनी मांगों पर गौर करके बॉलीवुड की राहों को आसान बनाने की कोशिश करती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi