S M L

मौजूदा वित्त वर्ष में 6.5% से अधिक रहेगा आर्थिक विकास दर: पनगढ़िया

पनगढ़िया ने गोल्डमैन साक्स की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि 2018-19 में वृद्धि दर बढ़कर 8 फीसदी होने की पूरी संभावना है

Updated On: Dec 03, 2017 05:44 PM IST

Bhasha

0
मौजूदा वित्त वर्ष में 6.5% से अधिक रहेगा आर्थिक विकास दर: पनगढ़िया

प्रमुख अर्थशास्त्री और नीति आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया को उम्मीद है कि मौजूदा वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर 6.5 फीसदी से अधिक रहेगी.

उन्होंने कहा कि बीते तीन साल में व्यापक आर्थिक संकेतक मोटे तौर पर स्थिर रहे हैं. जहां चालू खाते का घाटा लगभग एक प्रतिशत पर बनी हुई है और मुद्रास्फीति में नरमी है.

पीटीआई भाषा को दिए इंटरव्यू में पनगढ़िया ने कहा, ‘एक जुलाई 2017 से माल व सेवा कर (जीएसटी) के कार्यान्वयन के अनुमान के चलते अप्रैल-जून तिमाही में आपूर्ति में कुछ बाधा हुई और त्रैमासिक वृद्धि दर घटकर 5.7 फीसदी रह गई.’

उन्होंने कहा, ‘लेकिन हम सुधार होता देखेंगे और 2017-18 के दैरा बढ़ोतरी दर 6.5 प्रतिशत या इससे उंची रहेगी’. पनगढ़िया ने इस बारे में गोल्डमैन साक्स की एक रिपोर्ट का हवाला दिया कि 2018-19 में वृद्धि दर बढ़कर 8 फीसदी होने की पूरी संभावना है.

आपको बता दें कि देश की जुलाई-सितंबर की तिमाही में वृद्धि दर 6.3 प्रतिशत रही है.

क्या सरकार अर्थव्यवस्था को बल देने के लिए राजकोषीय घाटे के लक्ष्य में ढील दे सकती है यह पूछे जाने पर पनगढ़िया ने कहा, ‘व्यक्तिगत तौर मैं नहीं मानता है कि वित्त मंत्री और प्रधानमंत्री राजकोषीय सुदृढ़ीकरण को हासिल करने की दिशा में अपनी कड़ी मेहनत को इस चरण में ‘बेकार’ होने देंगे.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi