S M L

Ease of doing business रिपोर्ट जारी, बिजनेस करने के लिए आंध्र प्रदेश सबसे बेस्ट

रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली में बिजनेस करने पहले से मुश्किल हुआ है. दिल्ली 2016 में 19वें पायदान पर था जो अब खिसक कर 23वें पायदान पर आ गया है

FP Staff Updated On: Jul 10, 2018 06:58 PM IST

0
Ease of doing business रिपोर्ट जारी, बिजनेस करने के लिए आंध्र प्रदेश सबसे बेस्ट

सरकार के ईज ऑफ डूइंग बिजनेस इंडेक्स में आंध्र प्रदेश नंबर वन है. यहां कारोबार करने की सबसे ज्यादा सहूलियत है. दूसरे नंबर पर तेलंगाना है. दिलचस्प है कि ये राज्य गुजरात, महाराष्ट्र और तमिलनाडु जैसे राज्यों से आगे हैं जिन्हें औद्योगिक राज्य माना जाता है.

कौन है दूसरे नंबर पर?

डिपार्टमेंट ऑफ इंडस्ट्रियल पॉलिसी एंड प्रमोशंस (DIPP) बिजनेस रिफॉर्म्स एक्शन प्लान, 2017 के थर्ड एडिशन के मुताबिक, तेलंगाना दूसरे और हरियाणा तीसरे नंबर पर है. दिल्ली 2016 में 19वें पायदान पर था जो अब खिसक कर 23वें पायदान पर आ गया है. झारखंड चौथे और गुजरात पांचवें नंबर पर है. टॉप 10 में शामिल दूसरे राज्यों में छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, कर्नाटक और राजस्थान है.

क्यों खास है यह इंडेक्स?

ईज ऑफ डुइंग बिजनेस रैंकिंग शुरू करने की सबसे बड़ी वजह यह  है कि सरकार राज्यों में एक प्रतियोगिता चाहती थी. सरकार चाहती थी कि बिजनेस के लिए बेहतर माहौल मुहैया कराने में राज्य एक दूसरे से होड़ करें. इसके अलावा इन रैंकिंग से यह भी पता चलता है कि जो सुधार केंद्र लागू करता है उसे राज्य अपनाकर बिजनेस हासिल कर सकते हैं.

2016 में तेलंगाना और आंध्रप्रदेश संयुक्त रूप से इंडेक्स में अव्वल आए थे. ये राज्य पहली बार गुजरात से ऊपर थे. पीएम नरेंद्र मोदी का होम टाउन गुजरात 2015 में नंबर वन था.

इस बार इस रिपोर्ट के नतीजे हैरान करने वाले हैं क्योंकि महाराष्ट्र 97.29 फीसदी के साथ 13वें नंबर पर है. यह एक ऐसा राज्य है जिसे औद्योगिक राज्य माना जाता है. ठीक इसी तरह बिजनेस हब होने के बावजूद तमिलनाडु 95.39 फीसदी के साथ 15वें नंबर पर है. रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली में बिजनेस करने पहले से मुश्किल हुआ है.

यह रैंकिंग वर्ल्ड बैंक और डीआईपीपी मिलकर तैयार करती है. यह रिपोर्ट जुलाई 2016 से जुलाई 2018 के बीच 340 प्वाइंट बिजनेस रिफॉर्म एक्शन प्लान के आधार पर तैयार किया जाता है. इस साल की रैंकिंग में डीआईपीपी ने बिजनेस-टू-गवर्मेंट (B2G) फीडबैक लिया था. यह फीडबैक राज्यों के उस दावों की रियल्टी चेक थी कि उन्होंने सुधारों को कितने बेहतर ढंग से लागू किया है.

इस रिपोर्ट के कुछ दिनों के बाद वर्ल्ड बैंक की एनुअल ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रिपोर्ट, 2017 आने वाली है. पिछले साल भारत ईज ऑफ डुइंग बिजनेस में 30 पायदान ऊपर 100 पर पहुंच गया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi