S M L

कम डिमांड और घटती बिक्री से बंद होने के कगार पर है टाटा नैनो!

टाटा मोटर्स के अधिकतर डीलरों ने पिछले तीन-चार महीनों में नैनो कार के लिए ऑर्डर देना बंद कर दिया है. टाटा के साणंद प्लांट में प्रतिदिन केवल दो नैनो कारों का निर्माण किया जा रहा है

Updated On: Nov 26, 2017 07:12 PM IST

FP Staff

0
कम डिमांड और घटती बिक्री से बंद होने के कगार पर है टाटा नैनो!

टाटा की लखटकिया कार नैनो अब बंद होने के कगार पर है. इस कार की लगातार गिरती बिक्री और निर्माण को देखते हुए ऐसा कहा जा सकता है. टाटा के गुजरात के साणंद प्लांट में प्रतिदिन केवल दो नैनो कारों का निर्माण किया जा रहा है.

बिजनेस स्टैंडर्ड में छपी खबर के मुताबिक देश के ज्यादातर हिस्सों में टाटा मोटर्स के डीलरों ने पिछले तीन-चार महीनों में इस छोटी कार के लिए ऑर्डर देना बंद कर दिया है. वो अपने शोरूम में कंपनी के टियागो, टिगोर, हेक्सा और नेक्सन जैसे लेटेस्ट मॉडल को जगह दे रहे हैं.

यह कुछ आंकड़े हैं जो बताते हैं कि नैनो कार की बिक्री हर महीने कम हो रही है...

टाटा मोटर्स ने इस साल अगस्त में देश भर में फैले अपने 630 आउटलेट में 180 नैनो भेजे थे (अगस्त 2016 में इसकी संख्या 711 थी). सितंबर महीने में कार की केवल 124 यूनिट भेजी गई जबकि, अक्टूबर में इसकी संख्या और गिरकर केवल 57 रह गई. सितंबर और अक्टूबर के त्योहारों के सीजन होने के चलते कार की डिमांड अधिक थी.

MUMBAI, INDIA - MARCH 23: (R-L) Ravi Kant Managing Director of Tata Motors and Ratan Naval Tata Chairman of Tata Group attend the launch of the Tata Nano on March 23, 2009 in Mumbai, India. Tata Motors today launched the world's cheapest car which will initially go on sale in India and cost roughly 2000 USD. (Photo by Ritam Banerjee/Getty Images)

साल 2009 में बड़े धूमधाम से रतन टाटा ने दुनिया की सबसे छोटी कार टाटा नैनो को लॉन्च किया था

पिछले हफ्ते यह बताया गया था कि नैनो का इलेक्ट्रिक वर्जन का निर्माण किया जा रहा है. इसे टाटा मोटर्स और कोयंबटूर स्थित जयम ऑटोमोटिव्स मिल कर बना रहे हैं. यह भी खबर आई थी कि इस नई कार का नाम निओ होगा, इसे नैनो के बंद होने के तौर पर देखा जा रहा है.

टाटा मोटर्स के पांच डीलरों ने अखबार के साथ बातचीत में बताया कि उनके पास नैनो के स्टॉक रखे हैं लेकिन भविष्य में इस गाड़ी के लिए उन्होंने कंपनी से कोई डिमांड नहीं रखी है.

टाटा मोर्टर्स के पंजाब के एक डीलर ने कहा, 'हिमाचल प्रदेश में एक डीलर के पास कुछ खरीदार थे. मैंने कुछ कारों का डीलर टू डीलर ट्रांसफर किया, ऐसा जीएसटी की वजह से संभव हुआ. मैंने 10 हजार से लेकर 50 हजार रुपए तक के डिस्काउंट पर कुछ कारों को बेचा. मेरे पास अब भी 4-5 कारें पड़ी हैं.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi