S M L

जीडीपी ग्रोथ रेट में गिरावट नोटबंदी के कारण नहीं: नीति आयोग उपाध्यक्ष

उन्होंने कहा कि अगली तिमाही में विकास दर 7 फीसदी से ज्यादा होगी

Bhasha Updated On: Sep 01, 2017 07:13 PM IST

0
जीडीपी ग्रोथ रेट में गिरावट नोटबंदी के कारण नहीं: नीति आयोग उपाध्यक्ष

नीति आयोग के नए उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने दावा किया है कि 2017-18 की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में जीडीपी ग्रोथ रेट में गिरावट के पीछे नोटबंदी कारण नहीं है.

गौरतलब है कि गुरुवार को जारी आंकड़ों में पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट 5.7 प्रतिशत बताई गई जो तीन साल में सबसे कम रही है.

उन्होंने यह भी कहा कि मजबूत आर्थिक बुनियाद, बेहतर मानसून और एफडीआई और सर्विस सेक्टर के अच्छे प्रदर्शन से चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट 7.0 से 7.5 प्रतिशत रहने की उम्मीद है.

वह नीति आयोग के उपाध्यक्ष का पद संभालने के बाद अपने पहले संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे. यह पूछे जाने पर कि क्या नोटबंदी के कारण पहली तिमाही में आर्थिक वृद्धि कम रही है, उन्होंने इसे सिरे से खारिज करते हुए कहा, 'जीडीपी की गिरावट में नोटबंदी का कोई हाथ नहीं हो सकता.'

उन्होंने कहा, 'नोटबंदी केवल छह सप्ताह के लिए आठ नवंबर से 30 दिसंबर तक थी. उसमें भी करेंसी मौजूद थी. जनवरी के पहले सप्ताह से नए नोटों को चलन में लाने का काम शुरू हो गया. वह छह सप्ताह का समय था जब करेंसी की कमी थी.'

मनमोहन की भविष्यवाणी सही नहीं

उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बयान का भी जिक्र किया जिसमें उन्होंने कहा था कि नोटबंदी से आर्थिक वृद्धि में करीब दो प्रतिशत कमी आएगी. कुमार ने कहा कि तिमाही आंकड़े के जरिए इस तरह का दावा नहीं किया जा सकता.

कुमार ने कहा कि दरअसल जीडीपी ग्रोथ रेट में कमी का कारण जीएसटी लागू होने से पहले कंपनियों द्वारा उस दौरान बचे हुए माल को छूट देकर निकालना (डीस्टॉकिंग) और मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर का कमजोर प्रदर्शन है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Test Ride: Royal Enfield की दमदार Thunderbird 500X

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi