S M L

सरकार ने कंपनियों से कहा, पेट्रोल-डीजल की कीमत ना बढ़ाएं

सरकार ने तेल कंपनियों को दाम ना बढ़ाने और रिकवरी में होने वाले घाटे का बोझ कंपनियों को ही उठाने को कहा है ताकि ग्राहकों पर ज्यादा बोझ ना बढ़े

Updated On: Apr 11, 2018 08:31 PM IST

FP Staff

0
सरकार ने कंपनियों से कहा, पेट्रोल-डीजल की कीमत ना बढ़ाएं

पेट्रोल और डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों की वजह सरकार की हर तरफ से आलोचना हो रही है. ऐसे में अब माना जा रहा है कि सरकार ने सरकारी तेल कंपनियों को पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतें बढ़ाने से मना कर दिया है.

ब्लूमबर्ग के मुताबिक, सरकार ने कंपनियों को यह भी निर्देश दिया है कि हालिया रिकवरी में जो घाटा हुआ है, उसका बोझ कंपनियां उठाएं. 1 अप्रैल को दिल्ली में पेट्रोल का भाव 73.73 रुपए था, जो पिछले चार साल में सबसे ज्यादा था. वहीं डीजल का दाम अपने ऑल टाइम हाई 64.58 रुपए प्रति लीटर था. डीजल और पेट्रोल की कीमतें आसमान छूने के कारण सरकार को एक्साइज ड्यूटी में कटौती पर विचार करना जरूरी हो गया है.

भारत में क्यों है महंगाई

दक्षिण एशियाई देशों में सबसे ज्यादा महंगा डीजल और पेट्रोल इंडिया में है. बाकी एशियाई देशों में भारत के मुकाबले टैक्स 50 फीसदी है. नाम जाहिर न करने की शर्त पर सरकारी तेल कंपनियां इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन, भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन को प्रति लीटर 1 रुपए का घाटा उठाना पड़ा.

भारत को हर साल जितने क्रूड ऑयल की जरूरत होती है, उसका 80 फीसदी हिस्सा आयात किया जाता है. हालांकि जब इस मामले में हिंदुस्तान पेट्रोलियम के चेयरमैन एम के सुराना से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi