S M L

इंडियन आईटी इंडस्ट्री के लिए कमजोर रहेगी दिसंबर तिमाही

इस फिस्कल ईयर की तीसरी तिमाही के नतीजों की शुरुआत 11 जनवरी से होगी

Updated On: Jan 07, 2018 10:06 PM IST

Bhasha

0
इंडियन आईटी इंडस्ट्री के लिए कमजोर रहेगी दिसंबर तिमाही

आईटी कंपनियों के लिए दिसंबर 2017 तिमाही कमजोर रह सकता है. अक्टूबर से दिसंबर 2017 तिमाही के बीच कामकाजी दिनों की संख्या कम रहने और बैंकिंग एवं फाइनेंस कंपनियों से ऑर्डरर कम मिलने के कारण ऐसा हुआ है.

निवेशक फिलहाल टीसीएस, इंफोसिस जैसी आईटी कंपनियों के गाइडेंस का इंतजार कर रहे हैं. इसके अलावा अमेरिका में कर सुधार तथा वीजा नियमों में प्रस्तावित बदलाव से भी आईटी इंडस्ट्री की टेंशन बढ़ गई है.

इस फिस्कल ईयर की तीसरी तिमाही के नतीजों की शुरुआत 11 जनवरी से होगी. हर बार की तरह सबे पहले टीसीएस अपने नतीजे पेश करने वाली है. इसके बाद इंफोसिस और 19 जनवरी को विप्रो अपना रिजल्ट पेश करेगी.

कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज की रिपोर्ट के मुताबिक, ‘भारतीय आईटी कंपनियों के रेवेन्यू में 1-1.8 फीसदी का इजाफा हो सकता है. साल के अंत में छुट्टियां ज्यादा होने, बैंकिंग एवं फाइनेंस कंपनियों की डिमांड कम होने से रेवेन्यू घटने की आशंका है.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi