S M L

चीन में 17 साल बाद चालू खाते का घाटा दर्ज, निर्यात पर दिखेगा बड़ा असर

इस साल की वित्तीय तिमाही में 28.2 अरब यूएसडी का घाटा दर्ज किया गया है. ऐसा 17 साल बाद हुआ है

Updated On: May 05, 2018 06:03 PM IST

FP Staff

0
चीन में 17 साल बाद चालू खाते का घाटा दर्ज, निर्यात पर दिखेगा बड़ा असर

चीन में पिछले 17 साल में पहली बार इस वित्तीय तिमाही में चालू खाता घाटा दर्ज किया गया है. इसके साथ ही चीन को 3.14 खरब अमेरिकी डॉलर (यूएसडी) विदेशी मुद्रा भंडार का व्यापार अधिशेष जुटाने में गहरा धक्का लगा है.  स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन फॉरेन एक्सचेंज (एसएएफई, सेफ) ने यह जानकारी दी.

इस साल की वित्तीय तिमाही में चालू खाते में 28.2 अरब यूएसडी का घाटा दर्ज किया गया है. इससे पहले 2001 में इस तरह का घाटा चीन के सरकारी खजाने को उठाना पड़ा था.

टाइम्स नॉउ की खबर के मुताबिक, माल व्यापार का अधिशेष 53.4 बिलियन यूएसडी है. यह आंकड़ा तब है जब इस साल का माल व्यापार 35 प्रतिशत के गिरावट में चल रहा है. सेवा व्यापार में 76.2 अरब यूएसडी का घाटा हुआ है. सेवा क्षेत्र का यह घाटा 1998 के बाद किसी वित्तीय तिमाही में सबसे ज्यादा है.

सेफ ने हालांकि इन गिरावटों का बचाव किया है. सेफ के अनुसार चालू खाते का घाटा मौसमी कारकों के कारण है, जबकि अर्थशास्त्रियों की मानें तो यह घाटा चीन के अंतरराष्ट्रीय लेनदेन में किसी बड़े बदलाव की ओर इशारा करता है. पिछले दशक में दुनिया की आर्थिक असंतुलन के पीछे भी चीन की लेनदेन नीतियों को ही जिम्मेदार माना जाता रहा है.

चीन का चालू खाता अधिशेष पिछले 17 साल में काफी मजबूत रहा है जिसे चीन अपनी आर्थिक मजबूती से जोड़ता रहा है. इसी कारण उसे दुनिया की फैक्ट्री भी कहा जाता रहा है जहां से सबसे ज्यादा निर्यात होता है. दुनिया को चौंकाते हुए चीन ने 4 खरब विदेशी मुद्रा भंडार का अधिशेष जमा कर लिया था लेकिन इस बार इसमें गिरावट दर्ज हुई है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi