S M L

ILFS को बचाने के लिए SBI, LIC पर दबाव डाल रहा है केंद्र : कांग्रेस

ILFS समूह पर कुल 91,000 करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज है और धन की भारी कमी से जूझ रहा है. कंपनी 27 अगस्त के बाद कर्ज पर ब्याज के भुगतान में कई बार चूक कर चुकी है

Updated On: Sep 29, 2018 09:20 PM IST

Bhasha

0
ILFS को बचाने के लिए SBI, LIC पर दबाव डाल रहा है केंद्र : कांग्रेस

मुंबई कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि वह कर्ज के बोझ तले दबी इंफ्रास्ट्रक्चर लिजिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज (ILFS) कंपनी को बचाने के लिए भारतीय जीवन बीमा निगम लिमिटेड (एलआईसी) और भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) पर दबाव डाल रही है.

ILFS में, एलआईसी, 25.34 प्रतिशत और एसबीआई 6.42 प्रतिशत की हिस्सेदार है.

ILFS समूह पर कुल 91,000 करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज है और धन की भारी कमी से जूझ रहा है. कंपनी 27 अगस्त के बाद कर्ज पर ब्याज के भुगतान में कई बार चूक कर चुकी है.

मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष संजय निरुपम ने कहा कि बुनियादी ढांचा क्षेत्र की यह दिग्गज कंपनी भाजपा सरकार के सयय में दिवालिया हुई है.यह कॉर्पोरेट संचालन की कमी का नतीजा है.

निरूपम ने कहा कि केंद्र सरकार एलआईसी और एसबीआई पर दबाव डाल रही है कि वे ILFS को बचने के लिए पैकेज दें. उन्होंने इसकी जांच की मांग की है.

उन्होंने कहा, '30 साल पुरानी कंपनी आज पूरी तरह से दिवालिया हो गयी है. कैसे पिछले तीन साल में कंपनी का कर्ज 44 प्रतिशत उछला और उसका मुनाफा 900 प्रतिशत गिरा?'

निरूपम ने कहा कि एलआईसी के करीब 29 करोड़ पॉलिसीधारक और उनमें से ज्यादातर आम आदमी हैं. सरकार चाहती है कि एलआईसी और एसबीआई के पैसों को विदेशी निवेशकों की हितों की रक्षा के लिए खर्च किया जाए. यह पैसे देश के आम इंसान की मेहनत की कमाई है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi