S M L

अवैध टेलीफोन एक्सचेंज मामले में मारन बंधु हुए आरोप मुक्त

चेन्नई में मामले की सुनवाई करते हुए सीबीआई विशेष अदालत की जज ने कहा कि आरोपों को साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं है इसलिए आरोप मुक्त किया जाता है

Updated On: Mar 14, 2018 04:27 PM IST

FP Staff

0
अवैध टेलीफोन एक्सचेंज मामले में मारन बंधु हुए आरोप मुक्त

तमिलनाडु के चेन्नई में सीबीआई की एक विशेष अदालत ने पूर्व केंद्रीय टेलीकॉम मंत्री दयानिधि मारन और उनके भाई कलानिधि मारन को अवैध टेलीफोन एक्सचेंज मामले में आरोप मुक्त कर दिया. सीबीआई अदालत की स्पेशल जस्टिस नटराजन ने कहा कि आरोपों को साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं है. मारन बंधुओं के अलावा पांच और लोग भी मामले से आरोप मुक्त हो गए हैं.

इसी सील फरवरी में दोनों भाइयों ने रिहाई के लिए याचिका दाखिल की थी. जिसका सीबीआई ने विरोध करते हुए कहा था कि उनके खिलाफ मामले को आगे बढ़ाने के लिए सबूत हैं. मारन बंधुओं के वकील ने कहा कि वे निर्दोष हैं और उन्होंने कोई नुकसान नहीं पहुंचाया.

दयानिधि मारन पर सीबीआई ने आरोप लगाया था कि उन्होंने संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रहते हुए अपनी ताकत का इस्तेमाल कर अपने आवास पर प्राइवेट टेलीफोन एक्सचेंज लगवाया था. मारन जून 2004 से दिसंबर 2006 तक संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री थे.

सीबीआई के आरोपों के मुताबिक, मारन के इस कृत्य से सरकारी खजाने को करीब 1.78 करोड़ रुपए का नुकसान पहुंचा था. यह नुकसान बीएसएनएल और एमटीएनएल को हुआ था.

सीबीआई के अनुसार, 764 टेलीकॉम लाइन मारन बंधुओं के आवास पर लगाई गई. जिसका इस्तेमाल सनटीवी डेटा के अवैध अपलिंक के लिए किया गया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi