S M L

इलेक्ट्रिक दोपहिया को बढ़ावा देकर हो सकती है 1.2 लाख करोड़ रुपए विदेशी मुद्रा की बचत

नीति आयोग की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों को बढ़ावा देकर तेल आयात के लिए खर्च होने वाले 1.2 लाख करोड़ रुपए विदेशी मुद्रा की बचत कर सकता है

Updated On: Sep 07, 2018 09:51 PM IST

Bhasha

0
इलेक्ट्रिक दोपहिया को बढ़ावा देकर हो सकती है 1.2 लाख करोड़ रुपए विदेशी मुद्रा की बचत

भारत इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों को बढ़ावा देकर तेल आयात के लिए खर्च होने वाले 1.2 लाख करोड़ रुपए विदेशी मुद्रा की बचत कर सकता है. नीति आयोग की एक रिपोर्ट में यह कहा गया है.

‘जीरो एमिशन व्हीकल्स: टुवॉर्ड्स ए पॉलिसी फ्रेमवर्क’ शीर्षक से जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत को परंपरागत ईंधन पर चलने वाले वाहनों (इंटरनल कंबस्टन इंजन) को इलेक्ट्रिक वाहनों में तब्दील करने में काफी लाभ होना है. वैश्विक मोबिलिटी सम्मेलन ‘मूव’ के दौरान यह रिपोर्ट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सौंपी गई.

देश में 17 करोड़ दोपहिया वाहन हैं. अगर इसमें से प्रत्येक वाहन प्रतिदिन करीब आधा लीटर पेट्रोल खपत करता है, तो कुल मिलाकर करीब 34 अरब लीटर की खपत होती है.

रिपोर्ट के मुताबिक 70 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से इस पर करीब 2.4 लाख करोड़ रुपए की लागत आती है. अब अगर यह मान लिया जाए कि आयातित कच्चे तेल की लागत, कर और अन्य खर्च को मिलकर यह 50 प्रतिशत बैठता है तो हम 1.2 लाख करोड़ रुपए मूल्य के आयातित तेल की बचत कर सकते हैं. इसमें कहा गया है कि इसे अगले पांच से सात साल में हासिल किया जा सकता है.

रिपोर्ट के अनुसार लेकिन इसके लिए अनुसंधान के साथ नीति व्यवस्था की जरूरत होगी जो अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी तक पहुंच को प्रोत्साहित कर सके. साथ ही भारतीय उद्योग की तरफ से इस संदर्भ में समन्वित प्रयास की आवश्यकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi