S M L

Budget 2019: सरकार की योजनाओं पर राष्ट्रपति ने पेश किया रिपोर्ट कार्ड, पढ़िए भाषण की अहम बातें

राष्ट्रपति कोविंद ने सरकार की जनधन योजना, आयुष्मान योजना, मुद्रा योजना से लेकर सर्जिकल स्ट्राइक, वन रैंक वन पेंशन और देश भर के बड़े इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स तक की बात की

Updated On: Jan 31, 2019 02:29 PM IST

FP Staff

0
Budget 2019: सरकार की योजनाओं पर राष्ट्रपति ने पेश किया रिपोर्ट कार्ड, पढ़िए भाषण की अहम बातें

संसद में गुरुवार को बजट सत्र का आरंभ हुआ. ये वर्तमान लोकसभा का आखिरी संसद सत्र है. आम चुनावों से पहले सरकार को अंतरिम बजट पेश करना है. इस सत्र के पहले दिन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने संसद के सेंट्रल हॉल में दोनों सदनों के संयुक्त सत्र को संबोधित किया.

इस संबोधन में राष्ट्रपति ने नरेंद्र मोदी सरकार की योजनाओं और उनके कार्यान्वयन पर रिपोर्ट कार्ड पेश किया. उन्होंने सरकार की जनधन योजना, आयुष्मान योजना, मुद्रा योजना से लेकर सर्जिकल स्ट्राइक, वन रैंक वन पेंशन और देश भर के बड़े इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स तक की बात की.

ये रहीं उनके भाषण की प्रमुख बातें-

- 2014 से पहले देश अनिश्चितता और निराशा के दौर से गुजर रहा था लेकिन नई सरकार ने लोगों में नई उम्मीद और आशा जगाई है. देश गांधी के सपनों के अनुरूप चल रहा है. जब ये सरकार आई थी, तो इसने सबके विकास की बात की थी. आज सरकार की कई योजनाओं का आधार ही सबका विकास रहा है. आज कई योजनाएं हैं जो सबकी मदद कर रही हैं.

-  ‘प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि परियोजना’ के तहत देश भर में अब तक 600 से ज्यादा जिलों में 4,900 जन औषधि केंद्र खोले जा चुके हैं. इन केंद्रों में 700 से ज्यादा दवाइयां बहुत कम कीमत पर उपलब्ध कराई जा रही हैं. सिर्फ 1 रुपया महीना के प्रीमियम पर ‘प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना’ और 90 पैसे प्रतिदिन के प्रीमियम पर ‘प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना’ के रूप में लगभग 21 करोड़ गरीब भाई-बहनों को बीमा सुरक्षा कवच प्रदान किया गया है.

- पिछले साढ़े चार वर्षों में सरकार की ग्रामीण आवास योजनाओं के तहत 1 करोड़ 30 लाख से ज्यादा घरों का निर्माण किया जा चुका है, जबकि वर्ष 2014 के पहले, पांच साल में, सिर्फ 25 लाख घरों का ही निर्माण हुआ था. ‘प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना’ के तहत अब तक 2 करोड़ 47 लाख घरों में बिजली का कनेक्शन दिया जा चुका है. अब भारत तेजी से उस स्थिति की तरफ बढ़ रहा है, जहां उसके प्रत्येक घर में बिजली होगी और कोई भी परिवार अंधेरे में जीने के लिए मजबूर नहीं होगा.

- मेरी सरकार गरीब महिलाओं और बच्चों में कुपोषण की चुनौती को समाप्त करने के लिए भी पूरी शक्ति से काम कर रही है. कुपोषण के लिए जिम्मेदार परिस्थितियों को दूर करने के लिए तथा कुपोषण से पीड़ित लोगों के लिए मेरी सरकार ने राष्ट्रीय पोषण मिशन शुरू किया है.

- सरकार ने हर साल 1 करोड़ युवाओं को कौशल विकास ट्रेनिंग दे रही है. और मुद्रा योजना के तहत युवाओं को बिना किसी गारंटी के 7 लाख करोड़ रुपए ऋण दिए गए हैं. हर माता-पिता का सपना होता है कि उनके बेटी-बेटे अच्छी तरह पढ़-लिख कर जीवन में आगे बढ़ें. उच्च स्तरीय प्रोफेशनल एजुकेशन के अवसरों को बढ़ाने के लिए सरकार नए शिक्षण संस्थानों की स्थापना कर रही है और 7 IIT, 7 IIM,  14 IIIT,1 NIT और 4 NID की स्थापना की जा रही है.

- किसानों की हर जरूरत को समझते हुए, उनकी समस्याओं के स्थाई समाधान के लिए सरकार प्रयासरत है. कृषि उपकरण और बीज खरीदने से लेकर बाजार में कृषि उत्पाद पहुंचाने और बेचने तक की पूरी प्रक्रिया में किसानों को अधिक सुविधा और सहायता मिले, यह सरकार की प्राथमिकता है. सरकार किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए काम कर रही है. फसलों पर एमएसपी डेढ़ गुना बढ़ाई गई. उनकी फसलें खराब होने पर कम प्रीमियम पर बीमा दिया जा रहा है.

- जनधन योजना के तहत 34 करोड़ खाता खुले. इन जनधन खातों से बिचौलियों की भूमिका खत्म हुई है. ये आर्थिक परिवर्तन का आधार बना है. इन खातों में 88 हजार करोड़ रुपए जमा हुए हैं. इनकम टैक्स देने वालों की संख्या 3.8 करोड़ से बढ़कर 6 करोड़ से ज्यादा हुई.

- जीएसटी में सुझावों के आधार पर बदलाव किए गए हैं. जीएसटी से देश में एक ईमानदार और पारदर्शी व्यापारिक व्यवस्था का निर्माण हो रहा है जिसका काफी बड़ा लाभ देश के युवाओं को मिल रहा है. इस व्यवस्था से व्यापारियों के लिए पूरे देश में कहीं पर भी व्यापार करना आसान हुआ है और उनकी कठिनाइयां कम हुई है.

- सरकार ने नाबालिग बच्चियों के साथ बलात्कार के जघन्य अपराध की सजा के लिए अपराधी को फांसी की सजा देने जैसा महत्वपूर्ण फैसला किया. साथ ही वह तीन तलाक से पीड़ित मुस्लिम महिलाओं के जीवन भयमुक्त बनाने के लिए प्रयास कर रही है.

- हमारी सेनाएं और उनका मनोबल, 21वीं सदी के भारत के सामर्थ्य का प्रतीक है. इस सरकार की ओर से की सर्जिकल स्ट्राइक नई नीति के रूप में सामने आई है. मेरी सरकार ने चार दशकों से लंबित वन रैंक वन पेंशन की मांग को न सिर्फ पूरा किया बल्कि 20 लाख पूर्व-सैनिकों को 10,700 करोड़ रुपए से ज्यादा के एरियर का भुगतान भी किया है. राफेल के वायुसेना के बेड़े में शामिल होने से उनकी शक्ति बढ़ेगी.

आखिरी में उन्होंने आगामी लोकसभा चुनावों में पहली बार वोट डालने वाले मतदाताओं को शुभकामनाएं दीं और कहा कि सरकार देश के नागरिकों के साथ मिलकर नए भारत का निर्माण करने के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने जय हिंद के उदबोधन के साथ अपना अभिभाषण खत्म किया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi