S M L

मार्च तिमाही में बैंकों के NPA में होगी 8000 करोड़ की बढ़ोतरी

पिछले वित्त वर्ष की चौथी तिमाही के दौरान एनपीए बनने वाले बड़े कर्ज खातों में गीतांजलि भी शामिल है

Updated On: Apr 15, 2018 05:30 PM IST

Bhasha

0
मार्च तिमाही में बैंकों के NPA में होगी 8000 करोड़ की बढ़ोतरी

पीएनबी घोटाले का सीधा असर फाइनेंसियल इयर 2017-18 के अंतिम तिमाही पर दिखेगा. घोटाला प्रभावित कंपनी गीतांजलि जेम्स के कारण 31 मार्च को समाप्त तिमाही में बैंकों के एनपीए में कम से कम आठ हजार करोड़ रुपए का इजाफा होने वाला है.

सूत्रों ने कहा कि बैंकों को पिछले वित्त वर्ष की अंतिम तिमाही के लिए सिर्फ गीतांजलि जेम्स को लेकर आठ हजार करोड़ रुपए के प्रावधान करने होंगे.

पिछले वित्त वर्ष की चौथी तिमाही के दौरान एनपीए बनने वाले बड़े कर्ज खातों में गीतांजलि भी शामिल है.

दिसंबर तिमाही तक बैंकों का समग्र एनपीए 8,40,958 करोड़ रुपए था. इसमें सर्वाधिक हिस्सेदारी औद्योगिक कर्जे की थी.

आईडीबीआई बैंक ने बनाई एनपीए से निपटने की योजना

दूसरी तरफ बढ़ते एनपीए से निपटने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के आईडीबीआई बैंक ने अपनी वित्तीय सेहत सुधारने और एनपीए में कमी लाने के लिए विस्तृत रूपरेखा बनाई है. रिजर्व बैंक ने हाल में आईडीबीआई बैंक को पत्र भेजकर उसकी विभिन्न कमजोरियों का जिक्र किया है.

सूत्रों ने कहा कि बैंक ने अपना पूंजी आधार मजबूत करने के लिए कई गैर प्रमुख संपत्तियों और रीयल एस्टेट संपत्तियों की पहचान कर उन की बिक्री की योजना पर काम कर रहा है.

रीयल एस्टेट परिसंपत्तियों के मामले में आईडीबीआई बैंक सबसे अमीर बैंकों में से एक हैं. पिछले महीने बैंक ने मुंबई में बांद्रा कुर्ला परिसर में स्थित अपनी एक इमारत को सेबी को 1,000 करोड़ रुपए में बेचने के लिए सौदा किया है.

इससे पहले 27 मार्च को बैंक को सरकार की तरह से 7,881 करोड़ रुपए का पूंजी निवेश मिला है. यह भारत सरकार द्वारा 2017-18 में आईडीबीआई बैंक में 10,610 करोड़ रुपए की पूंजी डालने की घोषणा के तहत शेष बीच राशि थी. पिछले साल बैंक में 2,729 करोड़ रुपए डाले गए थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi