S M L

RBI की अगली बोर्ड मीटिंग में सरकार खेलेगी पावर प्ले, सूत्रों ने किया खुलासा

मोदी सरकार चाहती है कि अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित किया जाए और वह आरबीआई से आसान उधार नीति की अपेक्षा कर रही है

Updated On: Nov 28, 2018 05:26 PM IST

FP Staff

0
RBI की अगली बोर्ड मीटिंग में सरकार खेलेगी पावर प्ले, सूत्रों ने किया खुलासा

आरबीआई की आखिरी बोर्ड मीटिंग के बाद तनाव दोबारा बढ़ सकता है. अगली मीटिंग 14 दिसंबर को होनी है जिसमें सरकार का लक्ष्य है कि केंद्रीय बैंक के संचालन में बदलाव किया जाए, जिसके लिए दबाव भी बढ़ाया जा सकता है.

न्यूज18 के मुताबिक तीन सूत्रों ने बताया कि 19 नवंबर को हुई बोर्ड की मीटिंग में 18 सदस्यीय बोर्ड सरकारी उम्मीदवारों के साथ खड़ा है. एक सूत्र ने बताया कि सरकार की तरह ही कई बोर्ड मेंबर्स यह महसूस करते हैं कि आरबीआई को अपने फैसलों के लिए ज्यादा पारदर्शी और जवाबदेह होना चाहिए.

नवंबर की मीटिंग से पहले पीएम मोदी के प्रशासन में सीनियर अधिकारियों ने दबाव बढ़ा दिया था. यह दबाव पब्लिक और प्राइवेट तरीके से बढ़ाया गया था जो पॉलिसी मामलों से जुड़ा था. यह चिंता भी जाहिर की गई थी कि आरबीआई को अपनी स्वतंत्रता खोने का खतरा है.

मई में आम चुनाव होने की संभावना है. ऐसे में वोटर कमजोर कृषि आय को लेकर चिंतित है. मोदी सरकार चाहती है कि अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित किया जाए और वह आरबीआई से आसान उधार नीति की अपेक्षा कर रही है.

एक पूर्व वरिष्ठ आरबीआई अधिकारी ने बताया कि इस समय आरबीआई और सरकार के बीच संबंध बिल्कुल फैली हुई रबड़ की तरह हैं. एक बार रबड़ को खींच दिया जाए तो फिर वह अपने पहले के स्वरूप में नहीं आ सकती. केंद्रीय बैंक की स्वायत्तता पर इस महत्वपूर्ण हमले को लंबे समय तक याद किया जाएगा.

इससे पहले खबर आई थी कि आरबीआई और केंद्र सरकार के मतभेद के बीच गवर्नर उर्जित पटेल इस्तीफा दे सकते हैं. पूर्व में, बोर्ड ने एक सलाहकार निकाय से थोड़ा अधिक काम किया है, लेकिन केंद्रीय बैंक की स्थापना के 1934 के कानून के तहत उसके पास असली दांत रखने और नीति परिवर्तन को लागू करने की क्षमता है.

इसमें परिवर्तन के साथ-साथ गति के लिए, सरकार ने बोर्ड में अकाउंटिंग, टेक्नॉलाजी और फाइनेस समेत विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ नियुक्त किए हैं. सूत्रों के मुताबिक संभव है कि अगली मीटिंग में इस बात की समीक्षा हो कि सेंट्रल बैंक और बोर्ड किस तरह से जुड़ा हुआ है. इसमें सहायक कमेटियों का कामकाज भी शामिल है.

सूत्रों के मुताबिक इसमें मुख्य रूप से केंद्रीय बैंक की गवर्नेंस, बोर्ड और आरबीआई समेत अन्य संबंधित मुद्दों के बीच संबंध शामिल होगा. अन्य मुद्दों में एक कमजोर गैर-बैंकिंग वित्त क्षेत्र को अधिक तरलता समर्थन प्रदान करना, केंद्रीय बोर्ड की उप-समितियों का कार्य करना और 11 राज्य संचालित बैंकों पर उधार देने वाले प्रतिबंधों को आसान बनाना शामिल है जो तत्काल सुधारात्मक कार्य योजना (पीसीए) के तहत हैं

सूत्रों ने बताया कि आरबीआई गवर्नेंस, पीसीए और लिक्विडिटी प्राथमिकता पर है. एक गवर्नर और डिप्टी गवर्नर समेत पूर्व आरबीआई अधिकारी ने बताया कि इससे पहले ऐसा कभी नहीं हुआ जब बोर्ड ने केंद्रीय बैंक के रेगुलेटरी फंक्शन में दखल देने की कोशिश की हो. हालांकि वित्त मंत्री और आरबीआई के प्रवक्ता ने इस मामले पर कोई टिप्पणी नहीं की है.

वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों ने आरबीआई को बैंकों के लिए पूंजीगत नियमों को कम करने, बैंकिंग क्षेत्र में अधिक तरलता प्रदान करने, छोटे व्यवसायों को उधार देने का समर्थन करने और अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए आरबीआई के सरप्लस रिजर्व को बूस्ट करने के लिए दबाव डाला है.

बीते हफ्ते हुई मीटिंग में आरबीआई बोर्ड ने फैसला किया था कि एक सहायक कमेटी 11 बैंकों के लिए प्रतिबंधों को आसान बनाने और बोर्ड को सिफारिशें करने के मामले को देखेगी. यह फैसला अक्टूबर में बोर्ड की मीटिंग से हुआ था, जिसमें पीसीए के तहत कुछ बैंकों में सुधार हुआ था. यह सुधार खराब ऋण वसूली, उच्च जमा वृद्धि सहित पैरामीटर के आधार पर हुआ था.

सूत्रों ने बताया कि उस समय आरबीआई कुछ समय तक इंतजार करना चाहता था यह देखने के लिए कि क्या प्रतिबंधों को उठाने से पहले सुधार जारी रखा गया था. लेकिन सरकार का मानना है कि इंतजार अधिक जोखिमों को आमंत्रित करेगा और आरबीआई को चार उधारदाताओं पर प्रतिबंध लगाने की उम्मीद है.

यह भी कहा गया कि हम एक रोगी को लंबे समय तक अस्पताल में नहीं छोड़ सकते क्योंकि इससे अन्य मरीजों के बीच संक्रमण फैलने का खतरा होता है. पीसीए की सूची एक स्थिर नहीं हो सकती.

इस तरह के दबाव से नाखुश, पिछले महीने आरबीआई के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने चेतावनी दी थी कि केंद्रीय बैंक की स्वतंत्रता को कमजोर करना विनाशकारी हो सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi